MP : 600 करोड़ की लागत से तैयार होगी योजना, इन जिलों को मिलेगा लाभ, CM के अधिकारियों को निर्देश- काम में लाएं तेजी

अस्पताल का कार्य पूर्ण होने पर ग्वालियर अंचल के रोगियों के लिए उपचार सुविधाओं में वृद्धि हो जाएगी।

shivraj government
demo pic

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। विकास की राह पर आगे बढ़ रहे मध्यप्रदेश (MP) में जल प्रदाय योजना (water supply scheme) के लिए सभी ग्रामीण अंचलों को जल जीवन मिशन (Jal Jeevan Mission) सहित जल प्रदाय की अन्य योजनाओं से जोड़ा जा रहा है। इसके साथ ही प्रदेश में अब तक 40 लाख ग्रामीण परिवारों के घर नल से जल पहुंचाने की व्यवस्था की जा चुकी है। जल जीवन मिशन के तहत ग्रामीण क्षेत्र के औरत 69984 स्कूल (MP School) और 40680 आंगनबाड़ी केंद्रों (Anganwadi Centers) में भी जल पहुंचाई जाये।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भिण्ड में 200 करोड़ रूपए की जल प्रदाय योजना के कार्यों को निर्धारित अवधि के पूर्व ही पूरा करने का लक्ष्य रखा जाए, जिससे इसी ग्रीष्म काल में नागरिकों को पर्याप्त पेयजल मिल सके। इसी तरह सागर के उप नगर मकरोनिया में करीब 400 करोड़ की लागत से निर्मित की जा रही जल प्रदाय योजना के कार्यों में भी तेजी लायी जाए।

सितम्बर 2022 में पूरी होने वाली इस योजना को प्रयासपूर्वक समय के पहले पूरा कर जनता को लाभान्वित किया जाए। स्कूल और आंगनवाड़ी केंद्रों में जल पहुंचाने के लक्ष्य को 60 फीसद तक पूरा कर लिया गया है। जल प्रदाय योजना के तहत 4325 ग्रामों को शत-प्रतिशत नल कनेक्शन से जल की सुविधा प्रदान की गई है।

Read More : Government Job 2022 : टेक्निकल असिस्टेंट के पदों पर निकली भर्ती, जानें डिटेल्स, 29 अप्रैल से पहले करें आवेदन

सीएम शिवराज मंत्रालय में प्रदेश में संचालित बड़ी परियोजनाओं की समीक्षा (प्रगति ऑनलाइन) कर रहे थे। मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। सीएम शिवराज ने दोनों जल प्रदाय योजनाओं के लिए कार्य कर रही एजेंसियों के पदाधिकारियों से भी वर्चुअली चर्चाकर योजनाओं को शीघ्र पूरा करने को कहा।

ग्वालियर में एक हजार बिस्तर का अस्पताल

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य मोहम्मद सुलेमान ने बताया कि ग्वालियर में एक हजार बिस्तर क्षमता के अस्पताल का कार्य पूरा होने को है। वर्तमान में एक ब्लॉक में ओपीडी भी संचालित है। अस्पताल भवन के साथ ही धर्मशाला का निर्माण भी हो रहा है। अस्पताल का कार्य पूर्ण होने पर ग्वालियर अंचल के रोगियों के लिए उपचार सुविधाओं में वृद्धि हो जाएगी।

भोपाल का ग्लोबल स्किल्स पार्क

प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार श्री आकाश त्रिपाठी ने बताया कि भोपाल का ग्लोबल स्किल्स पार्क इस वर्ष के अंत तक तैयार हो जाएगा। सिंगापुर के सहयोग से विकसित हो रहे इस पार्क की परियोजना लागत 645 करोड़ रूपए है। यह पार्क राजधानी भोपाल और मध्यप्रदेश के युवाओं को प्रशिक्षित कर रोजगार दिलवाने का महत्पूर्ण केन्द्र बनेगा।