Corona Guideline : MP में सख्ती, सीएम शिवराज के कड़े निर्देश, आज से लागू होगी नई गाइडलाइन

सीएम शिवराज ने Corona को लेकर मध्य प्रदेश में नई गाइडलाइन तय कर दी है।

mp corona update today 17-1-2022

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में बुधवार को 594 Corona पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। जिसमें से आधे से अधिक मामले आर्थिक राजधानी इंदौर में देखने को मिले हैं। प्रदेश में Active cases की संख्या भी बढ़कर 1500 के पार पहुंच गई है। इसके साथ ही संक्रमित दर एक प्रतिशत रिकॉर्ड किया गया है। सीएम शिवराज ने Corona को लेकर मध्य प्रदेश में नई गाइडलाइन (MP Corona guideline) तय कर दी है। सीएम शिवराज ने मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक करते हुए मंत्रियों, प्रशासनिक अधिकारी सहित प्रदेश के प्रमुख नगरों के कलेक्टरों को Corona स्थिति से जानकारी प्राप्त की है। इस दौरान उन्होंने समीक्षा बैठक में आवश्यक निर्देश भी दिए हैं।

दरअसल मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि Corona के नए वेरिएंट ओमाइक्रोन (Omicron) का संक्रमण तेजी से देखने को मिल रहा है। अन्य राज्यों में भी संक्रमण दर में बढ़ोतरी देखी जा रही है लेकिन इससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। अधिक से अधिक सावधानियां बरतने की जरूरत है। सीएम शिवराज ने कहा कि हम पहले की तरह ही मिलकर लड़ेंगे और इस संक्रमण का मुकाबला करेंगे और इसे जीतेंगे।

सीएम शिवराज ने अनिवार्य रूप से मास्क लगाने के निर्देश दिए, सीएम ने कहा कि Mask का उपयोग न करने पर जुर्माने की व्यवस्था भी की गई है। वहीं अन्य राज्य में नाइट कर्फ्यू के अलावा अन्य प्रतिबंध नहीं है। मध्य प्रदेश में कोई सख्त प्रतिबंध नहीं लगाए गए हैं लेकिन उपस्थिति की संख्या को सीमित करने का निर्णय लिया गया है।

CM ने कहा कि आवश्यक बेड की व्यवस्था, कोविड केयर सेंटर में संक्रमित रोगियों के आइसोलेशन की समुचित व्यवस्था की जाए। इसके साथ ही प्रभारी अधिकारी जिलों के संपर्क में रहे। सभी सावधानियों का पालन सुनिश्चित किया जाए। सीएम शिवराज ने कहा कि भारत में सबसे ज्यादा संक्रमण दर महाराष्ट्र में है। इसके कारण पड़ोसी राज्य होने के नाते मध्यप्रदेश को अधिक से अधिक एहतियात बरतने की आवश्यकता है।

सीएम के प्रमुख निर्देश

  • कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर कार्यशील स्थिति में रहें।
  • राज्य में बड़े मेले आयोजित न हों।
  • विवाह समारोह आदि में उपस्थिति संख्या सीमित रहे। इनकी सीमा 250 रहेगी।
  • अंतिम संस्कार आदि में 50 व्यक्ति तक शामिल हों।
  • स्कूलों में यथावत 50 प्रतिशत विद्यार्थियों की उपस्थिति की व्यवस्था बनी रहे।
  • प्रदेश में नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा।
  • होम आयसोलेशन का प्रभावी पर्यवेक्षण हो।
  • कोविड केयर सेंटर्स में स्वयंसेवी संस्थाएं स्वेटर, रजाई आदि उपलब्ध करवाएं।
  • आरटीपीसीआर टेस्ट की माकूल व्यवस्था बनी रहे।
  • अन्य व्याधियों से ग्रस्त लोगों को प्राथमिकतापूर्वक अस्पताल में दाखिल कर उपचार का लाभ मिले।
  • प्रत्येक स्तर पर कोविड एप्रोपिएट व्यवहार का पालन हो।
  • ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल GOI के अनुसार हो (भारत सरकार की गाइड लाइन के अनुसार चिकित्सा उपचार करें)।
  • यह संभव है प्रदेश में संक्रमित रोगी संख्या बढ़ेगी, आवश्यकतानुसार बिस्तर क्षमता बढ़ाएं।
  • कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर ब्लॉक स्तर तक बना लें।
  • टेस्ट प्रतिदिन 60 हजार से कम न हो, कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग होती रहे।
  • 15 से 18 वर्ष के बच्चों के आयु समूह के टीकाकरण का कार्य चलता रहे ।
  • संक्रमण के लक्षण साधारण हैं ,फिर भी आवश्यकता के अनुसार जो कदम होंगे जरूरी, वे उठाए जाएंगे ।
  • सभी नगरों और ग्रामों में उपचार और पॉजिटिव रोगियों की देखभाल की व्यवस्थाएं चाक-चौबंद रहे ।
  • संभागीय मुख्यालयों पर और मेडिकल कॉलेज स्तर पर सभी प्रबंध सुनिश्चित करें।

उन्होंने स्वैच्छिक संगठनों आमजन, जनप्रतिनिधियों और क्राइसिस मैनेजमेंट समितियों के सदस्यों से मिलजुल कर संक्रमण का मुकाबला करने का आह्वान किया। सीएम ने कहा कि भोपाल में लाल परेड ग्राउण्ड के पास मोतीलाल नेहरू स्टेडियम में Isolation के लिए पूर्व की कोरोना लहरों के समय जो व्यवस्था की गई थीं। उसी तरह अभी भी उसकी तैयारी रखी जाए। संक्रमण का प्रभाव कम होने के बावजूद यह व्यवस्था एहतियातन कर ली जाए। इसी तरह इंदौर में भी स्टेडियम में रोगियों को आयसोलेट रखने के प्रबंध सुनिश्चित हों। ठंड के मौसम को देखते हुए स्वैच्छिक संगठनों के सहयोग से आवश्यक रजाइयों की व्यवस्था भी की जाए।

MP Active Cases

मध्यप्रदेश में 515 केसेस हैं। देश में 42 हजार और विश्व में 18 लाख केस आए हैं। MP के कुल Positive cases में लगभग आधे प्रकरण इंदौर में है। भोपाल में 307, ग्वालियर में 101, जबलपुर में 71 और उज्जैन में 47 संक्रमण के प्रकरण सामने आए हैं। कुल रोगियों में से अस्पताल में लगभग 8 प्रतिशत रोगी isolated किए गए हैं। शेष संक्रमित घर पर ही आयसोलेट हैं। बिना ऑक्सीजन वाले बेड मात्र 0.67 प्रतिशत, ऑक्सीजन बेड 0.19 प्रतिशत और आईसीयू एवं एचडीयू बेड 0.34 प्रतिशत उपयोग में आ रहे हैं। वर्तमान में प्रदेश में करीब 50 हजार बिस्तर क्षमता उपलब्ध है।

Youth Vaccination List 

03 जनवरी से प्रारंभ 15 से 18 आयु समूह के किशोरों के वैक्सीनेशन में कुल लक्ष्य के मुकाबले प्रदेश में औसत 30 प्रतिशत उपलब्धि प्राप्त हो चुकी है। सर्वाधिक प्रगति छतरपुर में 57 प्रतिशत, इंदौर में 56 प्रतिशत, सीहोर में 48 प्रतिशत, सागर एवं हरदा में 44 प्रतिशत अर्जित की गई है। मध्यप्रदेश में कुल 48 लाख के लक्ष्य मुकाबले 14 लाख 37 हजार 274 डोज़ लगाए जा चुके हैं।