दुनिया की पहली कोरोना DNA वैक्सीन Zydus Cadila भारत में तैयार, DCGI से मांगी इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी

Zydus ने कहा है कि तीसरी लहर को देखते हुए ये वैक्सीन बेहद प्रभावकारी है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। Corona के खिलाफ लड़ाई में भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है वहीं भारत को जल्दी एक और बड़ी मदद मिलने वाली है। गुजरात बेस्ड फार्मास्युटिकल्स कंपनी जायडस कैडेला (Pharmaceuticals company Zydus Cadila) ने DCGI से 12 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए DNA वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी की मांग की है। दरअसल जायडस कैडेला (Zydus Cadila) के तीनों चरण का ट्रायल (trial) पूरा हो चुका है।

गुजरात स्थित दवा कंपनी Zydus Cadila ने भारत के शीर्ष दवा नियामक, ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को आवेदन किया है, जो ZyCoV-D के आपातकालीन उपयोग की मंजूरी की मांग कर रहा है। जो कि 12 वर्ष की आयु के लोगों के लिए Covid के खिलाफ DNA Vaccine है। कंपनी ने 28,000 से अधिक स्वयंसेवकों में तीसरे चरण के ट्रायल से अंतरिम परिणाम पूरे किये। यह अध्ययन अंतरिम डेटा में सुरक्षा और प्रभावकारिता को प्रदर्शित करता है।

Read More: सीनियर IPS के घर ACB का छापा, आय से अधिक संपत्ति मामले में 10 अन्य ठिकानों पर कार्रवाई

Zydus Cadila के तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण डेटा से पता चलता है कि ZyCoV-D 12 से 18 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों के लिए सुरक्षित है। कंपनी ने सालाना Corona टीकों की 100-120 मिलियन Dose बनाने की योजना बनाई है। भारत बायोटेक के Covaxin, ZyCoV-D के बाद दूसरा स्वदेशी टीका तीन Dose Vaccine  है। Zydus Cadila के अनुसार, Zycov-D की तीन खुराक दिन 0, दिन 28 और दिन 56 पर दी जानी हैं। हालाँकि कंपनी दो-Dose वैक्सीन पर भी काम कर रही है।

मामले में Zydus ने कहा कि DCGI ने पिछले साल जुलाई में ZyCoV-D के लिए मानव परीक्षण करने के लिए Cadila Healthcare Limited को अनुमति दी थी। कंपनी ने कहा था कि इसकी वैक्सीन जून 2021 तक बाजारों में आ जाएगी। Zydus ने कहा है कि तीसरी लहर को देखते हुए ये वैक्सीन बेहद प्रभावकारी है।