MP School

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। एमपी बोर्ड (MP Board) परीक्षाओं से पहले10 वीं और 12वीं के छात्रों के सामने बड़ी परेशानी खड़ी हो गई है। आखिरी तारीख निकल जाने के चलते लाखों प्रदेश के लाखों छात्र फॉर्म भरने से चूक गए है, ऐसे में निजी स्‍कूल संचालकों ने मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल (MP Board of Secondary Education) से 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं (Board Examinations)  के फॉर्म भरने की तारीख को आगे बढ़ाने की मांग की है।

प्राइवेट स्‍कूल एसोसिएशन  ने एमपी बोर्ड  को  चेतावनी देते हुए कहा कि अगर सामान्य शुल्क के साथ फॉर्म भरने के आदेश जारी नही हुए तो वे आंदोलन को मजबूर हो जाएंगे।इस सिलसिले में आज सोमवार (Monday) को प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन माशिमं का घेराव भी करेगा।

यह भी पढ़े… MP Board – इस तारीख तक भरे जाएंगे 10वीं-12वीं की बोर्ड परीक्षाओं के फॉर्म

दरअसल, वर्ष 2020-21 के लिए माध्यमिक शिक्षा मंडल (MPBSE) 10वीं और 12वीं की परीक्षा के फाॅर्म भरवाने की प्रक्रिया जारी है। इसकी आखिरी तारीख 15 दिसंबर (December) थी, लेकिन अगर छात्र (Student) लेट फीस (Fees) के साथ भी फॉर्म जमा कर सकते है। वैसे तो निर्धारित तारीख तक 900 शुल्क था लेकिन अब 31 दिसंबर तक उनसे 2900 और 31 जनवरी तक परीक्षा के आवेदन पत्र (Exam Form)  भरने पर विलंब शुल्क 5900 रुपये वसूला जाएगा।

इसके अलावा मंडल की परीक्षा के प्रथम प्रश्न पत्र के 1 माह पूर्व तक आवेदन भरने के लिए विलंब शुल्क 10,900 रुपये देय होगा, ऐसे में लाखों छात्रों के सामने बड़ी परेशानी खड़ी हो गई है, इसका अभिभावकों और निजी संचालकों ने विरोध किया है।

संचालकों का कहना है कि कोरोना संकटकाल (Corona Crisis) के चलते एमपी बोर्ड (MP Board) द्वारा नया पोर्टल लांच करने और तय तिथि तक सर्व बार बार डाउन होने के कारण लाखों छात्र फॉर्म भरने से चूक गए है, ऐसे में उनके लिए 2000 हजार लेट फीस के साथ फॉर्म भरना पड़ रहा है, जो कि गलत है।कोरोना काल में अभिभावक वैसे ही परेशान और तंग हालात से गुजर रहे है, ऐसे में माध्‍यमिक शिक्षा मंडल अधिक फीस वसूलने के चक्कर में लेट फीस से फॉर्म भरवा रहा है।

यह भी पढ़े… MP Board – इस बार देरी से होगी 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं, यह है बड़ा कारण

प्राइवेट स्‍कूल एसोसिएशन (Private school association) ने माशिमं को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आज-कल में तारीख आगे नही बढ़ाई गई तो उनका आंदोलन जारी रहेगा।उन्होंने मांग की है कि जल्द से जल्द पोर्टल खोला जाए ताकी छात्र सामान्य शुल्क के साथ फीस भर सके।स्कूल संचालक संघाें के पदाधिकारी डाॅ. आशीष चटर्जी ने भी  कहा कि साधारण शुल्क के साथ फॉर्म भरने की तारीख बढ़ानी चाहिए।

बता दे कि हर साल माशिमं की 10-12वीं की बोर्ड परीक्षा में करीब 20 लाख विद्यार्थी शामिल होते हैं। अब तक करीब 17 लाख विद्यार्थी फॉर्म भर चुके हैं। इस बार नामांकन करने की तारीख 30 सितंबर रखी गई थी और माशिमं ने फॉर्म भरने के लिए अपना पोर्टल लांच किया था, लेकिन सर्वर डाउन और मंडल का पोर्टल नहीं खुलने के कारण प्रदेश के करीब 3 लाख विद्यार्थी परीक्षा फॉर्म भरने से चूक गए, जिसके चलते स्कूल संचालकों ने तारीख को आगे बढ़ान की मांग की है।

गौरतलब है कि हाल ही में स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) की समीक्षा बैठक में स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री इन्दर सिंह परमार (Inder Singh Parmar) ने कक्षा 10 वीं और 12 वीं के विद्यार्थियों के लिए 18 दिसंबर से स्कूल (School) खोलने का फैसला किया था, जिसके बाद से कक्षाएं लगाई जा रही है, हालांकि कोरोना के चलते छात्रों की संख्या में कमी देखी जा रही है।