कृषि मंत्री कमल पटेल के कई बड़े ऐलान- किसानों के लिए बनेंगे प्रशिक्षण केन्द्र

किसान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल एम्स हॉस्पिटल (Bhopal AIIMS Hospital) के पीछे अत्याधुनिक कृषक (Farmers) विश्राम-गृह-सह-प्रशिक्षण केन्द्र 31 हजार वर्ग फीट में बनाया जायेगा। यह भवन भू-तल के अतिरिक्त 3 मंजिला रहेगा। इसमें ऑडिटोरियम, कम्प्यूटर-रूम के अतिरिक्त 50 कृषकों (Farmers) के ठहरने की उत्तम व्यवस्था रहेगी। भवन के बेसमेंट में 35 कारों के खड़े रहने का स्थान रहेगा। भवन की लागत 8 करोड़ 84 लाख रुपये होगी। यह ऐलान आज शुक्रवार को कृषि मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) ने किसानों को लेकर किए।

यह भी पढ़े.. होली से पहले MP में सख्ती बढ़ी, इन जिलों में भी रविवार को लॉकडाउन, CM ने दिए ये निर्देश

कमल पटेल ने कहा कि फर्नीचर इत्यादि के लिये 2 करोड़ रुपये का प्रावधान पृथक से किया गया है। इस प्रकार भवन 10 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से 18 माह में तैयार किया जायेगा। पटेल ने मण्डी बोर्ड के अधिकारियों को समयावधि में गुणवत्तापूर्ण निर्माण कार्य करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने हिदायत भी दी है कि गुणवत्ता से समझौता करने पर संबंधितों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जायेगी।

दरअसल, आज  किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल भोपाल (Bhopal) के साकेत नगर में 10 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले नवीन कृषक विश्राम-गृह-सह-प्रशिक्षण केन्द्र के भूमि-पूजन समारोह में पहुंचे थे।इस दौरान कमल पटेल ने कहा कि शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) सबसे बड़े किसान हितैषी मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने पुन: मुख्यमंत्री बनते ही विकास के द्वार खोल दिये हैं। प्रतिदिन विकास के नये काम प्रारंभ किये जा रहे हैं।

यह भी पढ़े.. निकाय चुनाव से पहले मप्र के तहसीलदारों और नायब तहसीलदारों के लिए खुशखबरी

मंत्री पटेल ने कहा कि मध्यप्रदेश राज्य कृषि विपणन बोर्ड (MP State Agricultural Marketing Board) द्वारा किसानों के लिये अत्याधुनिक कृषि तकनीक एवं उन्नत कृषि के लिये प्रशिक्षण केन्द्र-सह-विश्राम-गृह का निर्माण कराया जा रहा है। इसमें उत्पादन के साथ ही अधिकतम लाभ अर्जन के लिये बेहतर विपणन के लिये भी प्रशिक्षण दिया जायेगा। हमारी सरकारों द्वारा ऐसी नीतियाँ बनाई जा रही हैं, जिससे किसानों को अधिकतम लाभ मिल सके। आत्म-निर्भर भारत और आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिये किसानों को आर्थिक रूप से सशक्त कर आत्म-निर्भर बनाने के लिये सरकार दृढ़ संकल्पित है।