मप्र: सभी जिलों में होगा सीटी स्कैन, महाराष्ट्र से आ रहे श्रमिकों के लिए वाहनों की व्यवस्था

मप्र

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan)  ने बड़वानी के समूह से लॉकडाउन (Lockdown) बढ़ाने और महाराष्ट्र से आ रहे श्रमिकों के संबंध में चर्चा के बाद निर्देश दिये कि महाराष्ट्र (Maharashtra) से मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की सीमा पर पहुँचने वाले श्रमिकों को उनके गाँवों तक पहुँचाने के लिए वाहन की व्यवस्था की जाए। साथ ही ग्राम स्तर पर उनके आइसोलेशन की व्यवस्था सुनिश्चित करें। सभी जिलों में सीटी स्केन की व्यवस्था जल्द से जल्द की जा रही है। जिलों के आपदा प्रबंधन समूह स्थानीय परिस्थियों का आकलन कर लॉकडाउन की अवधि और स्वरूप के संबंध में निर्णय लें।

यह भी पढ़े.. सीएम शिवराज ने पूरी की कमलनाथ की मांग, मप्र में दोबारा शुरु हुई यह योजना

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज मंत्रालय से वीडियो कांफ्रेंस द्वारा जिलों के क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप्स के सदस्यों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा है कि जब तक कोरोना (Corona) पूरी तरह नियंत्रित नहीं होता, सरकार और समाज को मिलकर लड़ना होगा। राज्य में ऑक्सीजन व्यवस्था के लिए समीक्षा की जा रही है। एक नियंत्रण कक्ष भी बनाया गया है।  पी नरहरि को इसका प्रभारी बनाया गया है। प्रतिदिन मप्र के एमएसएमई सेक्टर द्वारा आक्सीजन उत्पादन के साथ अन्य प्रांतों से आक्सीजन बुलवाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।

आज गुजरात के मुख्यमंत्री से भी मप्र के लिए अतिरिक्त ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए चर्चा की है। 90 प्रतिशत ऑक्सीजन अस्पतालों के लिए सुरक्षित कर दी गई है। उद्योगों(Industries)  को दस प्रतिशत Oxygen ही दी जायेगी। कोरोना संक्रमित रोगियों के लिए प्राथमिकता से आक्सीजन की व्यवस्था रहेगी।  प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी, अतिरिक्त व्यवस्था की गई है। कई बार कमी की खबरों के संदर्भ में संग्रहण की प्रवृति बढ़ जाती है। कालाबाजारी और संग्रहण पर कठोर कार्यवाई की जाएगी। वर्तमान में 180 लाख में टन उपलब्धता है।

यह भी पढ़े.. कोरोना ने बढ़ाई टेंशन, शिवराज सिंह चौहान बोले-स्थितियाँ पिछले साल से कहीं ज्यादा गंभीर

मुख्यमंत्री  चौहान ने कहा कि प्रदेश में 11 अप्रैल ज्योतिबा फुले जयंती से 14 अप्रैल डॉ. अंबेडकर जयंती (Dr. Ambedkar Jayanti) तक टीका उत्सव रहेगा। इसके लिए तैयारियाँ पूरी की जाएं। कोविड परिस्थितियों पर सब गंभीर रहे। जी अस्पतालों में जाँच की दरें निर्धारित कर दी गई हैं। निजी अस्पतालों द्वारा तय की गई दरों को अस्पताल में प्रमुख स्थान पर प्रदर्शित करना आवश्यक किया गया है। जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करे कि जनता से तय राशि से अधिक वसूली न हो। राज्य स्तर से हास्पिटल एडमिशन प्रोटोकॉल भी जारी किया गया है।

6 जिलों में किल कोरोना II अभियान

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि  बैतूल, छिन्दवाड़ा, बड़वानी, खरगोन, अलीराजपुर और झाबुआ जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण अधिक फैल रहा है। यहाँ किल कोरोना II अभियान शुरू किया जायेगा। इसके अंतर्गत ग्राम स्तर पर सर्वे कर प्रभावित व्यक्तियों की जाँच और इलाज की व्यवस्था होगी। प्रदेश में बिस्तर क्षमता बढ़ाई जा रही है। प्रत्येक जिले में सीसीसी ज्यादा सक्षम बनाए जा रहे हैं। इस माह के अंत तक अधिक से अधिक एक लाख केस भी आ जाएं, उसके अनुरूप इंतजाम किये जा रहे हैं। करीब एक लाख इंजेक्शन की व्यवस्था कर आपूर्ति प्रारंभ हो चुकी है। भारत सरकार से अतिरिक्त वेंटिलेटर मिल रहे हैं। निजी अस्पतालों से अनुबंध कर रोगियों के लिए व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जा रही हैं।

इन जिलों में मरीजों की कमी

गुना और शाजापुर के समूह ने जानकारी दी कि मरीजों की संख्या में कमी आना शुरू हुई है। इसी प्रकार बुरहानपुर के समूह ने जानकारी दी कि रेडक्रास के माध्यम से रेमडिसीवर इंजेक्शन की व्यवस्था कर ली गई है। इससे कई मरीजों को राहत मिली। मुख्यमंत्री चौहान ने बुरहानपुर के समूह को बधाई देते हुए पहल को अनुकरणीय बताया।

प्रदेशभर से मिले यह सुझाव

  • इंदौर से लॉकडाउन बढ़ाने और किराना, दूध, सब्जी और किराना दुकानों का समय प्रात: 7 बजे से 10 बजे तक करने का सुझाव प्राप्त हुआ।
  • जबलपुर, उज्जैन, देवास आदि से भी इस आशय का सुझाव प्राप्त हुआ।
  • ग्वालियर के आपदा प्रबंधन समूह ने बाजार को प्रात: 9 से शाम 6 बजे तक खोलने, विवाह समारोह में रात्रि भोज के स्थान पर लंच आयोजित करने, विवाह में अतिथियों की संख्या 250 तक सीमित रखने जैसे सुझाव दिये।
  • नरसिंहपुर के आपदा प्रबंधन समूह ने ग्रामीण क्षेत्र में भी लॉकडाउन की आवश्यकता बताई।
  • छिंदवाड़ा में विकास खण्ड स्तर पर कोविड केयर सेंटर खोलने, अस्पतालों में भर्ती मरीजों के लिए वीडियो कालिंग सुविधा देने की आवश्यकता बताई।
  • रीवा में कोरोना संबंधी सावधानियों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के लिए अधिक पुलिस बल उपलब्ध कराने, विदिशा में नवरात्रि पर्व और विवाह समारोह में भीड़ को नियंत्रित करने के संबंध में सुझाव प्राप्त हुए।
  • शिवपुरी से धार्मिक स्थलों में टीकाकरण की व्यवस्था संबंधी सुझाव प्राप्त हुए।
  • रायसेन के समूह ने धार्मिक कथा और कलश यात्रा में भीड़ कम करने के लिए आवश्यक उपाय करने और मंदसौर में आयुष चिकित्सकों की सेवाएँ लेने जैसे सुझाव रखे।