बड़ा फैसला: महाराष्ट्र से आने-जाने वाली सभी यात्री बसों पर प्रतिबंध

1 अप्रैल से 8वीं तक स्कूल खोलने पर नहीं हुआ कोई निर्णय

सीएम शिवराज

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सरकार ने महाराष्ट्र (maharashtra) से यात्री बस परिवहन (passenger buses ) बंद करने का फैसला लिया है। ये फैसला गुरूवार को मंत्रालय में हुई कोरोना (corona) की समीक्षा बैठक में लिया गया। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि 1 अप्रैल से आठवीं क्लास तक स्कूल खोलने का फैसला अलग से बैठक कर लिया जाएगा।

ये भी देखिये – MP Board: 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा की तारीखों में परिवर्तन, देखिये नया टाइम टेबल

महाराष्ट्र से आने वाली यात्री बसों पर प्रतिबंध

अब मध्य प्रदेश में महाराष्ट्र से आने-जाने वाली यात्री बसों पर प्रतिबंध लग जाएगा। सरकार ने ये बड़ा फैसला कोरोना संक्रमण रोकने के लिए लिया है। 21 मार्च से 31 मार्च तक महाराष्ट्र से आने वाली यात्री बस और महाराष्ट्र के लिए जाने वाली यात्री बसों का परिवहन पूरी तरह से बंद रहेगा। इसे लेकर परिवहन विभाग ने आदेश जारी कर दिये है। केंद्र सरकार ने कहा है कि महाराष्ट्र में कोरोना की दूसरी लहर आ चुकी है और ये पहले से कई गुना अधिक खतरनाक है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में कहा था कि कोरोना को रोकने के लिए समुचित उपाय किये जाएं। इसके बाद अब शिवराज सरकार ने महाराष्ट्र से आने और जाने वाली यात्री बसों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

8वीं तक स्कूल खोलने पर अलग से होगी बैठक

वहीं इस बैठक में कक्षा 8वीं तक स्कूल (school) खोले जाने पर भी चर्चा हुई, लेकिन फिलहाल कोई फैसला नहीं लिया गया है। इसे लेकर अब अलग से बैठक की जाएगी। हालांकि सीएम शिवराज कह चुके हैं कि कोरोना को लेकर बनी वर्तमान स्थिति के बाद स्कूल खोलने पर पुनर्विचार किया जाएगा।