उमंग सिंघार का खुलासा- ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिया था 50 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर

पूर्व मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 3 नवंबर को मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) में होने जा रहे उपचुनाव (By-election) के लिए मतदान होना है और 10 को परिणाम घोषित किए जाएंगे। रिजल्ट से साफ हो जाएगा कि MP में शिवराज सरकार (Shivraj Government) परमानेंट रहेगी या फिर कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) फिर से कमबैक करेगी। लेकिन इसके पहले अपने बयानों से हमेशा सुर्खियां में रहने वाले पूर्व मंत्री और कांग्रेस के विधायक उमंग सिंघार (Congress MLA Umang Singhar) के एक बयान ने सियासी गलियारों में खलबली मचा दी है।

दरअसल, कांग्रेस विधायक व पूर्व मंत्री उमंग सिंघार (Umang Singhar) ने खुलासा किया है उन्हें भी 50 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर दिया गया था, लेकिन उन्होंने सबको ठुकरा दिया था और कांग्रेस में ही रहने का फैसला लिया था। आज दोपहर धार (Dhar) में पत्रकार वार्ता में सिंघार ने कहा कि मैंने कल ही एक सभा में कहा था कि मुझे भी भाजपा द्वारा ऑफर दिया गया था, तो भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा (VD Sharma) ने मुझे चुनौती दी थी कि ऑफर देने वाले के नाम का खुलासा करो, इसीलिए आज मैं वह नाम सबके सामने कह रहा हूं कि  मुझे ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) ने 50 करोड़ और मंत्री पद का ऑफर दिया था

मैंने सिंधिया से कहा था आज से आपके और मेरे रास्ते अलग

सिंघार ने बताया कि जब कांग्रेस की सरकार गिराई जा रही थी और सिंधिया सहित कई कांग्रेसी विधायक बगावत कर गए थे , कई मंत्री बेंगलुरु में रुके हुए थे तब उस समय मेरी सिंधिया से बात हुई और उन्होंने कहा था कि अब कांग्रेस में आपका कोई भविष्य नहीं है, सब पार्टी छोड़ रहे हैं व आप की आर्थिक स्थिति को देखते हुए आपको भी कुछ कर दिया जाएगा, लेकिन मैंने स्वीकार नही किया और कह दिया था कि आज से मेरे और आपके रास्ते अलग-अलग हैं।

मेरी रगों में जमुना देवी का खून-उमंग सिंघार

उमंग ने बताया कि सिंधिया ने कहा था कि मेरी BJP में बात हो चुकी है, आपको भाजपा में शामिल होने पर 50 करोड़ और मंत्री पद मिलेगा।लेकिन मैंने सिंधिया को साफ कह दिया था कि मैं जमुना देवीजी का भतीजा हूं और उन्होंने कभी भी सच्चाई से अलग होकर राजनीति (Politics) नहीं की। ऐसे मेरे अंदर संस्कार है और इसी के लिए मैं काम करूंगा। कांग्रेस पार्टी के लिए काम करूंगा। अवसरवादी और विश्वासघात वाली राजनीति मैं नहीं करता। मेरी रगों में वही खून है जो स्वर्गीय जमुना जी के रगों में बहता था। स्वर्गीय जमुनादेवी जी ने भी मरते दम तक सिद्धांतों से समझौता नहीं किया था। मैंने सिंधिया से कहा कि आप मौका देख अवसर देखते हैं, मैं नहीं।

आने वाले दिनों में तूफान ला सकता है ये बयान

उपचुनाव के अंतिम दौर से पहले सिंघार के इस खुलासे ने सियासी गलियारों में सनसनी फैला दी है। हालांकि इन सारे आरोपों के बाद अभी तक सिंधिया की तरफ से कोई प्रतिक्रिया सामने नही आई है।ना ही भाजपा ने कोई बयान दिया है, लेकिन सिंघार के इस बयान से उपचुनाव की वोटिंग से ठीक दो दिन पहले सियासी हलको में खलबली मचा दी है। बयान के बाद भोपाल से दिल्ली तक हलचल तेज हो गई है। आने वाले दिनों में सियासी तूफान आने की संभावना है।अब देखना दिलचस्प होगा कि सिंधिया और बीजेपी इसका पलटवार कैसे और कब करती है।