Cabinet Meeting: मंत्रियों को दी बड़ी जिम्मेदारी, CM शिवराज बोले-10 को करुंगा निरीक्षण

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिए कि सभी मंत्रियों को एक सप्ताह के भीतर प्रभार के जिलों में अस्पतालों का निरीक्षण कराना होगा।

CABINET MEETING

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में आज मंगलवार 7 दिसंबर 2021 को महत्वपूर्ण कैबिनेट बैठक (Cabinet Meeting Today) हुई। बैठक से पहले सीएम शिवराज सिंह ने कहा कि मुझे बताते हुए खुशी है कि COVID19 के दौर में भी 2019 से तुलना करें तो 2021 में हमारी औद्योगिक इकाइयों में 49% वृद्धि हुई है। प्रस्तावित निवेश में 67% वृद्धि हुई है। रोजगार में भी 39 % की वृद्धि हुई है। वही कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर मंत्रियों को भी जिम्मेदारी सौंपी गई और अस्पतालों के निरीक्षण को लेकर निर्देश दिए।उन्होंने कहा कि संभावित तीसरी लहर से बचाव के लिए संपूर्ण प्रदेश में सजगता और सतर्कता आवश्यक है।

यह भी पढ़े.. Government Jobs: 10वीं पास के लिए बंपर भर्ती, 31 दिसंबर लास्ट डेट, इतनी मिलेगी सैलरी

सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) कहा कि तीसरी लहर को देखते हुए सभी मंत्रियों को एक सप्ताह के भीतर प्रभार के जिलों में अस्पतालों का निरीक्षण कराना होगा। बुधवार को एक बार फिर टीकाकरण महाअभियान चलेगा, इसमें भी हिस्सेदारी करें। वे 10 दिसंबर को सागर में जिला अस्पताल का निरीक्षण करेंगे। सोमवार को हमने कोरोना की स्थिति को लेकर समीक्षा की थी। स्थितियां पूरी तरह से नियंत्रण में हैं, पर हमें कोई भी कमी नहीं रखनी है। इसके लिए सभी मंत्री प्रभार के साथ-साथ गृह जिले की चिंता करें। अस्पतालों का निरीक्षण इसी सप्ताह कर लें।मंत्रियों को प्रभार के जिलों में अस्पतालों में बेड,वेंटिलेटर,ऑक्सीजन प्लांट आदि अन्य व्यवस्थाओं का निरीक्षण और समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं।

सीएम शिवराज ने कहा कि दिसंबर अंत तक प्रदेश में सभी पात्र व्यक्तियों का शत-प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित किया जाए। इसके लिए प्रभारी मंत्री अपने प्रभार के जिलों तथा अपने क्षेत्र की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों के साथ टीम भावना से कार्य करते हुए विशेष टीकाकरण के लिए वातावरण निर्मित करना सुनिश्चित करें।अगली केबिनेट मीटिंग के बाद अस्पतालों की स्थिति तथा टीकाकरण के लिए वातावरण निर्माण के उद्देश्य से संचालित की गई गतिविधियों की विस्तार से समीक्षा की जाएगी। अस्पतालों की स्थिति के संबंध में यदि कुछ सुधारात्मक उपाय करने हैं, तो उस संबंध में भी निर्णय लिया जाएगा।

यह भी पढ़े.. MP News:लापरवाही पर कृषि विभाग के 3 कर्मचारी निलंबित, 27 को नोटिस, 4 का वेतन काटा

शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि  भारतमाला परियोजना (Bharatmala Project) के अंतर्गत पहले चरण में इंदौर और भोपाल में मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक पार्क स्थापित करने की योजना है। ‘स्टार्ट योर बिजनेस इन 30 डेज’ की अवधारणा लागू की जा रही है। ईज ऑफ डूइंग के साथ-साथ कॉस्ट ऑफ डूइंग बिजनेस भी मितव्ययी बनाने की दिशा में निरंतर कार्य किया जा रहा है। मोहासा-बाबई औद्योगिक क्षेत्रों में उद्योगों को हमने सस्ती बिजली देने का निर्णय लिया है।

सीएम शिवराज सिंह ने कहा हम अटल एक्सप्रेस वे (Atal Expressway) का निर्माण कर रहे हैं। हमने नर्मदा एक्सप्रेस वे बनाने का फैसला किया है। पूरब से लेकर पश्चिम तक पूरे मप्र में। ये केवल एक्सप्रेस वे नहीं रहेगी। इसके आसपास इंडस्ट्रियल टाउनशिप खड़ी करने के हम प्रयास कर रहे हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी (PM Narendra Modi) ने आत्मनिर्भर भारत का संकल्प लिया,मप्र ने संकल्प लिया आत्मनिर्भर भारत के लिए #AtmaNirbharMP। इसका रोडमैप तैयार किया। देश को अगर आत्मनिर्भर बनाना है तो राज्यों का आ​त्मनिर्भर होना बहुत जरूरी है।

4 प्रमुख स्तंभों पर फोकस

सीएम शिवराज ने कहा कि हमने #AtmaNirbharMP के लिए चार प्रमुख स्तंभ तय किए हैं, जिसमें पहला है इंफ्रास्ट्रक्चर। हम यहां अधोसंरचना पर विशेष ध्यान दे रहे हैं। चाहे रोड कनेक्टिविटी हो या एयर कनेक्टिविटी, हम अधोसंरचना पर काम कर रहे हैं। दूसरा स्तंभ है गुड गवर्नेंस। आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के लिए तीसरा स्तंभ है स्वास्थ्य और शिक्षा। चौथा स्तंभ है अर्थव्यवस्था और रोजगार(economy and employment)। हम देखें तो अर्थव्यवस्था और रोजगार के लिए पहले दो स्तंभ यानी बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर और गुड गवर्नेंस मुख्य आधार है।

केंद्र ने दी मेडिकल डिवाइस पार्क को मंजूरी

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में भारत सरकार द्वारा मेडिकल डिवाइस पार्क को मंजूरी प्रदान की गई है। चिकित्सा उपकरणों के क्षेत्र में यह प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि है। प्रदेश में सूक्ष्म, लघु , मध्यम उद्योगों का जाल बिछाने के लिए भारत सरकार ने 13 क्लस्टर स्वीकृत किए हैैं।सरकार के दो प्रमुख लक्ष्य हैं एक मप्र के नौजवानों में उद्यमिता के गुण का विकास हो, वो रोजगार मांगने वाले नहीं, रोजगार देने वाले हों। दूसरा देश नहीं, बल्कि दुनिया में निवेश के लिए सबसे आकर्षक राज्य मप्र को बनाना है।