अंतरिक्ष रॉकेट को लेकर चीन का बयान, कहा- पृथ्वी पर नुकसान की कोई आशंका नहीं

चीन का 'लांग मार्च 5बी' रॉकेट इसी हफ्ते धरती पर गिर सकता है, हालांकि चीन का कहना है कि वायुमंडल में प्रवेश करते ही इसका अधिकांश हिस्सा जल जाएगा। संभावना जताई जा रही है कि 22 टन वजनी यह राकेट समुद्र क्षेत्र में ही गिरेगा।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। चीन (China) ने अपने ‘लांग मार्च 5बी’ रॉकेट (Long March 5b Rocket) को लेकर आखिरकार अपनी चुप्पी तोड़ी है। चीन का कहना है कि टम्बलिंग स्पेस रॉकेट (Tumbling Space Rocket) मलबा इस सप्ताह के अंत में पृथ्वी पर गिरने की आशंका है लेकिन किसी तरह के नुकसान की संभावना नहीं है। चीन ने कहा कि इसका अधिकांश हिस्सा वायुमंडल में प्रवेश के दौरान जल जाएगा।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने शुक्रवार को यहां ‘लांग मार्च 5 बी’ रॉकेट के बारे में पूछे गए सवालों के जवाब में कहा कि पिछले हफ्ते इसे देश के स्पेस स्टेशन के कोर मॉड्यूल से लॉन्च किया जिसके बाद ये धरती पर गिरना शुरू हो गया। पेंटागन ने मंगलवार को कहा था कि वह चीन के बड़े रॉकट पर नजर बनाए हुए हैं जो नियंत्रण से बाहर हो गया है और इस सप्ताहांत में पृथ्वी के वायुमंडल में फिर से प्रवेश करने वाला है। वांग ने कहा कि रॉकेट जब वायुमंडल में प्रवेश करेगा तो उसका कुछ हिस्सा जल जाएगा। यह एक अंतरराष्ट्रीय अभ्यास है। 29 अप्रैल को लॉन्ग मार्च 5 बी सफलतापूर्वक अपेक्षित कक्षा में प्रवेश कर गया है और हम रॉकेट के पुन: प्रवेश पर भी अधिक ध्यान दे रहे हैं।

वांग ने कहा कि ‘जैसा कि हम समझते हैं कि रॉकेट ने कुछ विशेष तकनीकी डिजाइन को अपनाया है। रॉकेट के अधिकांश भाग को वायुमंडल में दोबारा प्रवेश के दौरान जला दिया जाएगा। एयरो गतिविधियों या पृथ्वी पर किसी भी खतरे और नुकसान की संभावना नहीं है। उन्होंने कहा कि संबंधित सक्षम प्राधिकारी नियत समय में अपडेट देंगे। यह पूछे जाने पर कि क्या चीन जानता है कि मलबे के गिरने की संभावना है और संबंधित देशों को प्रतिबंधात्मक उपाय करने के लिए सतर्क किया गया है, वांग ने दोहराया कि चीनी पक्ष पर सक्षम प्राधिकारी उचित समय पर और समय पर तरीके से अपडेट देंगे।

हालांकि आधिकारिक मीडिया ने यहां चीनी विशेषज्ञों के हवाले से कहा कि विघटित रॉकेट के हिस्से अंतरराष्ट्रीय जल में गिरेंगे। रॉकेट का इस्तेमाल चीन ने अपने स्पेस स्टेशन के हिस्से को लॉन्च करने के लिए किया था। अनुमान जताया जा रहा है कि अंतरिक्ष मलबे की अधिकांश वस्तुएं वातावरण में जल सकती हैं, रॉकेट का आकार 22 टन है, इसलिए चिंता व्यक्त की जा रही है कि अगर ये रिहायशी इलाके में गिरे तो बड़ा नुकसान हो सकता है।