इंदौर, आकाश धोलपुरे। इंदौर में एक बार फिर पुलिस का अमानवीय चेहरा देखने को मिला। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई करने गए सीएसपी ने न केवल एक व्यक्ति को थप्पड़ मार दिया बल्कि दूसरे युवक से बोले कि तुझे यही गाड़ दूंगा। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई नगर निगम और पुलिस विभाग ने जिला प्रशासन के सहयोग से की थी।

Video : शिवपुरी में नाग-नागिन का अद्भुत डांस, देखने के लिए जुटी भीड़

शनिवार को इंदौर के तेजपुर गड़बड़ी मार्ग पर जिला प्रशासन, नगर निगम और पुलिस विभाग में संयुक्त मुहिम चलाई। वहां पर 40 से अधिक ऐसे अवैध निर्माण कर लिए गए थे जो अतिक्रमण के दायरे में थे। इस अतिक्रमण को हटाने का उद्देश्य सड़क का चौड़ीकरण करना था। लोगों की मकान और दुकान बने रहने के कारण मार्ग बेहद संकरा हो गया था। शनिवार को नगर निगम अपने पूरे बल के साथ मौके पर पहुंचे और कार्रवाई शुरू की। कार्रवाई के दौरान किसी भी तरह की अप्रिय स्थिति को रोकने के लिए भारी पुलिस बल भी तैनात किया गया था और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने भी मोर्चा संभाल रखा था। इन सभी अतिक्रमणकारियों को नोटिस जारी किए गए थे।

जैसे ही कार्रवाई शुरू हुई, जिन लोगों ने अतिक्रमण करने लगे थे, वह हो हल्ला करने लगे लेकिन इसी बीच वहां मौजूद सीएसपी जयंत राठौर ने एक अधेड़ व्यक्ति में चांटा मार दिया। चांटा मारते ही व्यक्ति का कोई परिचित या रिश्तेदार वहां आ गया और वह सीएसपी से वाद-विवाद करने लगा जिस पर आए एसडीएम प्रतुल सिन्हा ने उसे धक्का दे दिया। इस पर सीएसपी उस युवक को गरियाने लगे और उससे बोले थे ज्यादा चूं चपड़ की तो तुझे यही गाड़ दूंगा। बमुश्किल वहां मौजूद पुलिस बल और स्थानीय व्यक्तियों ने सीएसपी के आक्रोश से उस युवक को बचाया। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई तो ठीक है लेकिन इस तरह से किसी व्यक्ति के ऊपर अपशब्दों का प्रयोग करते हुए उसे मारना कहां तक उचित है यह समझ से परे है और पुलिस की कार्यप्रणाली पर कहीं ना कहीं सवालिया निशान भी खड़े हो रहे हैं।