इंदौर ने रचा देश में नया कीर्तिमान, स्वच्छता के बाद अब वैक्सीनेशन में नम्बर वन

इंदौर, आकाश धोलपुरे। स्वच्छता के बाद इंदौर ने फिर देश में फिर एक नया इतिहास कायम किया है। एक दिन में सर्वाधिक टीकाकरण करने वाला इंदौर देश का पहला जिला बना है। इंदौर जिले में सोमवार को टीकाकरण महाअभियान के तहत एक दिन में दो लाख 12 हजार से अधिक लोगों का टीकाकरण किया गया। टीकाकरण का कार्य जारी है और फायनल आंकड़ा सुबह तक सामने आ जायेगा। सोमवार को यह जानकारी इंदौर जिले के प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट, सांसद शंकर लालवानी, कलेक्टर मनीष सिंह ने रेसीडेंसी में पत्रकारों से चर्चा के दौरान दी।

इस महत्वपूर्ण उपलब्धि तक पहुंचने पर मंत्री सिलावट ने सभी धर्मगुरुओं, सामाजिक संगठनों, स्वयंसेवी संस्थाओं, व्यापारिक तथा उद्योगिक संगठनों, प्रबुद्धजनों, मीडिया से जुड़े प्रतिनिधियों, एडवोकेट, डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, शासकीय विभागों के अधिकारी और कर्मचारियों, नगर निगम तथा जिला पंचायत के अमले आदि का आभार व्यक्त किया। उन्होंने विशेषकर इंदौर की जागरूक जनता के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि सभी के सक्रिय सहयोग से ही यह गौरवपूर्ण उपलब्धि हासिल हुई है। कोरोना को हराने के लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संकल्प को पूरा करने के लिये मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व एवं निर्देशन में यह उपलब्धि हासिल की गई है, जो कोरोना को हराने में कारगर होगी। उन्होंने कहा कि अब हमारा अगला लक्ष्य इंदौर जिले को शत-प्रतिशत टीकाकरण करने का है।

इस मौके पर सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि इंदौर जो तय करता है, उसे सब मिलकर पूरा करते हैं। चाहे कितना भी चुनौतिपूर्ण या कठिन लक्ष्य हो सबके सहयोग से पूरा किया जाता है जो इंदौर की विशेषता है। उन्होंने कहा कि इंदौर में टीकाकरण के लिये आज अभूतपूर्व उत्साह था। चाहे ग्रामीण क्षेत्र हो या शहरी क्षेत्र हर जगह एक जैसा उत्साह देखा गया। लालवानी ने इस उपलब्धि के लिये सभी का आभार व्यक्त किया और कहा कि शासन-प्रशासन की कुशल रणनीति और सुक्ष्म कार्ययोजना से यह लक्ष्य हासिल हुआ है। सभी का आभार व्यक्त कर सांसद ने जागरूक जनता के सहयोग की तारीफ कर कहा कि आज हमने नया इतिहास कायम किया।

कलेक्टर मनीष सिंह ने इस अभियान को सफल बनाने के लिये तैयार की गई रणनीति की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि सुक्ष्म कार्य योजना बनाकर उसका मैदानी स्तर पर प्रभावी क्रियान्वयन किया गया। न्यूनतम समय में अधिकतम टीकाकरण हो इसके लिये प्रत्येक टीकाकरण केन्द्र पर दो-दो ऑपरेटर तैनात किये गये। टीका लगाने वाले स्टॉफ को विशेष प्रशिक्षण दिया गया। समाज के हर वर्ग की बैठकर लेकर उनसे संवाद किया और कार्यक्रम में सहयोग देने और उसे सफल बनाने का आग्रह किया गया। धर्मगुरूओं के संदेश का भी विशेष प्रभाव देखा गया। जिले में टीकाकरण अभियान की विभिन्न व्यवस्थाएं लोकतंत्र के महोत्सव निर्वाचन की तर्ज पर की गई। टीकाकरण की सामग्री वितरण के लिये फोकल पाइंट बनाये गये। जिले में एक हजार से अधिक टीकाकरण केन्द्र बनाये गये। व्यवस्थाओं की निगरानी के लिये और टीकाकरण केन्द्रों पर आने वाली समस्याओं के निराकरण के लिये एआईसीटीएसएल ऑफिसर में सर्वसुविधायुक्त कंट्रोल रूम स्थापित किया गया। बता दे कि इंदौर में आज 2 लाख 12 हजार 86 लोगों का वैक्सिनेशन एक ही दिन में पूरा किया गया जो अब एक रिकॉर्ड बन चुका है।