मध्यप्रदेश BJP संगठन में जगह चाहिए तो सिंधिया समर्थकों को करना होगा यह काम

जिलों से लेकर मंडल में होने वाले इन प्रशिक्षण शिविर में कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग दी जाएगी। भाजपा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तर्ज पर कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया जाता है। पार्टी सांसद और विधायक (MLA) से लेकर मंडल स्तर तक के कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण शिविर और प्रबोधन आयोजित करती है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पूर्व केंद्रीय मंत्री (Former Central Minister) और राज्यसभा सांसद ज्योतिराज सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के साथ भाजपा (BJP) में आए उनके समर्थकों (Supporters) को पार्टी पहले अपनी रीति नीति और वर्किंग स्टाइल (Working Style) की ट्रेनिंग देगी इसके बाद इन्हें वरिष्ठता के आधार पर संगठन में एडजस्ट किया जाएगा। भाजपा के ट्रेनिंग कैंप (Traning Camp) 27 नवंबर से शुरू हो रहे हैं, यह अगले महीने की 15 दिसंबर (December) तक चलेगी।

जिलों से लेकर मंडल में होने वाले इन प्रशिक्षण शिविर में कार्यकर्ताओं को ट्रेनिंग दी जाएगी। भाजपा में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तर्ज पर कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित किया जाता है। पार्टी सांसद और विधायक (MLA) से लेकर मंडल स्तर तक के कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण शिविर और प्रबोधन आयोजित करती है।

केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश पर यह प्रशिक्षण शिविर 27 नवंबर (November) से शुरू हो रहे हैं। इसके लिए करीब 350 मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण भोपाल में हो चुका है। अब संभागीय बैठकों का दौर चल रहा है। आज और कल संभागी बैठकों का दौर चल रहा है। राजधानी में इसके बाद बैठक होगी। बैठक के बाद संभागीय स्तर पर तैयार नेता जिला और मंडल में जाकर प्रशिक्षण देंगे।

1059 मंडलों में होगा प्रशिक्षण
भाजपा अपने सभी 1059 मंडलों में प्रशिक्षण शिविर का आयोजन कर रही है। इन प्रशिक्षण शिविरों में केंद्र और राज्य सरकार की उपलब्धियों का फोल्डर भी कार्यकर्ताओं को दिया जाएगा। इसके अलावा उन्हें भाजपा की स्थापना इतिहास कार्यपद्धती, विचारधारा, व्यक्तित्व, विकास और सोशल मीडिया (Social Media) के अधिकार उपयोग की जानकारी दी जाएगी। पिछले 6 सालों में अंत्योदय के प्रयासों की जानकारी भी इस प्रशिक्षण में शामिल होगी। जिला अध्यक्षों से कहा गया है कि वे यह सुनिश्चित करें कि इस प्रशिक्षण शिविरों में नए कार्यकर्ता आवश्यक रूप से शामिल हो। इसमें सिंधिया समर्थकों को खास तौर पर बुलाया जाएगा। संगठन चाहता है कि कांग्रेस (Congress) से आए कार्यकर्ता पहले पार्टी को समझ लें उसके बाद इन्हें जिला और मंडल में गठित होने वाली कार्यकारिणी में स्थान दिया जाए। भाजपा में नए जिला अध्यक्षों की घोषणा तो हो गई है पर अधिकांश जिलों में अभी कार्यकारिणी का गठन नहीं किया गया है। माना जा रहा है कि प्रदेश कार्यकारिणी के गठन के बाद इन जिलों में कार्यकारिणी गठित होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here