ज्योतिरादित्य सिंधिया के MP दौरे से पहले सियासी हलचल तेज, क्या है सियासी मायने?

कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) गिराने और मोदी कैबिनेट में नागरिक उड्डयन मंत्री बनने के बाद यह पहला मौका होगा जब ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) आ रहे है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मोदी कैबिनेट (Modi Cabinet) में केंद्रीय मंत्री बनने के बाद पहली बार ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) मध्य प्रदेश के दौरे पर आ रहे है।अगस्त माह (August 2021) में होने वाला यह दौरा तीन दिवसीय होगा, इसमें वे 16 अगस्त को गुना, 17 को राजगढ़ और 18 को छिंदवाड़ा जाएंगे।इस दौरे से पहले सियासी गलियारों में हलचल तेज हो गई है, इसका कारण18 अगस्त को ज्योतिरादित्य सिंधिया का छिंदवाड़ा जाना है, जो की पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का गढ़ है और यही से उनके बेटे नकुलनाथ कांग्रेस सांसद (Congress MP Nakul nath) है, ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर सिंधिया के इस दौरे के सियासी मायने क्या है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के 3 दर्जन से ज्यादा जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, बिजली गिरने के भी आसार

कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Government) गिराने और मोदी कैबिनेट में नागरिक उड्डयन मंत्री बनने के बाद यह पहला मौका होगा जब ज्योतिरादित्य सिंधिया मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) आ रहे है। वही 13 साल बाद यह दूसरा मौका होगा जब सिंधिया द 18 अगस्त को एक दिवसीय प्रवास पर छिंदवाड़ा पहुंचेंगे। शनिवार देर रात उनका आधिकारिक दौरा प्रदेश भाजपा की तरफ से जारी किया गया है। सिंधिया के आगमन की खबर लगते ही छिंदवाड़ा की राजनीतिक हलकों में सरगर्मी तेज हो गई है।इस दौरे को आगामी चुनावों और नाथ के किले को भेदने से जोड़कर देखा जा रहा है।इसके अलावा सियासी गलियारों में कई तरह की राजनैतिक चर्चाओं का भी दौर चल पड़ा है।

इससे पहले 2008 में केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया छिंदवाड़ा (Chhindwara) के दशहरा मैदान में पूर्व सीएम कमलनाथ के द्वारा आयोजित शंखनाद कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। इस शंखनाद कार्यक्रम में प्रदेश कांग्रेस के तमाम बड़े नेता आए थे, जिसमें पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) भी शामिल थे।हालांकि 2013 में भी सिंधिया केंद्र की तात्कालिक कांग्रेस सरकार में मंत्री रहते हुए छिंदवाड़ा की एयर स्ट्रिप पर उतरकर कार से नरसिंहपुर चले गए थे, लेकिन ना तो वे छिंदवाड़ा में रुके और ना ही उन्होंने कोई राजनीतिक कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

यह भी पढ़े.. दोस्ती से जीता भरोसा, फिर रेप कर बनाया वीडियो, अब VIRAL करने की दे रहा धमकी

इधर, शनिवार को नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ई-चिंतन कार्यक्रम में ऑनलाइन ‘हमारी विदेश नीति एवं उपलब्धियां’पर संबोधित करते हुए कहा कि हम न आंख झुका कर बात करेंगे, न आंख उठा कर बात करेंगे, हम आंख मिलाकर बात करेंगे।  हालांकि बीजेपी (BJP) के ई-चिंतन शिविर से मीडिया को दूर रखा गया था लेकिन चिंतन शिविर की यह तीन प्रमुख लाइनें सिंधिया ने खुद अपने सोशल मीडिया (Social Media) हैंडल से शेयर की हैं।इस बयान के बाद से ही सियासी गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है।

अगले महिने वीरेंद्र खटीक भी पहुंचेंगे एमपी

इसके अलावा मोदी मंत्रिमंडल में शामिल होने के बाद केंद्रीय मंत्री डॉ वीरेंद्र कुमार खटीक (Union Minister Dr Virendra Kumar Khatik) भी पहली बार प्रदेश के तीन दिवसीय दौरे पर आ रहे हैं। वे 16 अगस्त को जबलपुर, 17अगस्त को भोपाल और 18 अगस्त को ग्वालियर जाएंगे. जहां वे कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के MP दौरे से पहले सियासी हलचल तेज, क्या है सियासी मायने?