बीमा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश विधानसभा (Madhya Pradesh Legislative Assembly) के बजट सत्र 2021 (Budget Session 2021) से पहले शिवराज सरकार (Shivraj Government) किसानों (Farmers) के लिए एक बाद एक बड़े ऐलान कर रही है। अब किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) ने घोषणा की है कि आने वाले समय में मुख्यमंत्री ‘किसान-सड़क योजना’ (Chief Minister ‘Farmer-Road Scheme’) प्रारंभ की जायेगी, जिससे किसानों को अपने खेत तक पहुँचने में सुविधा होगी।

यह भी पढ़े… EMPLOYMENT : लॉकडाउन में नौकरी छूटी तो शुरु किया स्टार्ट अप, अब ऐसे हो रही आमदनी

शनिवार को मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के हित-लाभ अंतरण के लिये सीहोर में आयोजित जिला-स्तरीय कार्यक्रम में पहुंचे कमल पटेल ने किसानों को संबोधित करते हुए यह बातें कहीं।पटेल ने कहा कि आने वाले समय में मुख्यमंत्री ‘किसान-सड़क योजना’ प्रारंभ की जायेगी, जिससे किसानों को अपने खेत तक पहुँचने में सुविधा होगी। इस संबंध में उन्होंने कलेक्टर एवं राजस्व अमले (Collector and revenue staff) को निर्देशित किया कि जिले में रबी फसल कटने के उपरांत सभी कृषकों के खेतों का सीमांकन करवाएँ एवं अतिक्रमण पाये जाने पर पूरी सख्ती से उसे हटवाएँ।

पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री स्वामित्व योजना (PM 0wnership Plan) ने ग्रामीण विकास के द्वार खोले हैं। ग्रामीण क्षेत्र के व्यक्ति को उसकी संपत्ति का प्रमाण-पत्र (Certificate Of Property) तथा भूमि स्वामित्व प्राप्त करने का अधिकार मिल गया है। इससे किसान बैंक से ऋण  (Bank Loan) लेकर अपने लिए रोजगार (Employment) प्राप्ति के नये अवसर सृजित कर सकेगा। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण आबादी आत्म-निर्भर बनेगी, जिससे प्रदेश तथा देश की अर्थव्यवस्था (Economy) अधिक मजबूत हो सकेगी।

यह भी पढ़े… विवाहित पुत्री को अनुकंपा नियुक्ति देने मध्य प्रदेश हाईकोर्ट का बड़ा फैसला

मंत्री श्री पटेल ने कहा कि प्रदेश में खरीफ फसल (Cash crop)में हुए नुकसान की भरपाई के लिए कृषकों को फसल बीमा का लाभ तथा मुआवजे की व्यवस्था की गयी है। किसानों को राहत पहुँचाने के लिए हर संभव प्रयास किये गये हैं। खराब हुई फसलों का भी बीमा करवाया गया। इसी प्रकार वन ग्रामों को राजस्व ग्राम से लिंक करके आदिवासी जनसंख्या (Population) को भी फसल बीमा (Crop insurance) के लाभ के लिए पात्र बनाया गया है। देश में मात्र हमारे प्रदेश में ही कम आबादी वाले ग्रामों को पटवारी(Patwari) हल्के में शामिल किया गया है, जिससे फसल आपदा में बीमे का विशेष लाभ प्राप्त होता है।

किसानों को मिल रहा है इस योजना का लाभ

मंत्री श्री कमल पटेल ने जानकारी देते हुए बताया कि अप्रैल-2020 में प्रारंभ किये गये ‘कमल सुविधा केन्द्र’ के माध्यम से अब तक हजारों कृषकों की समस्याएँ निराकृत की गई हैं। दूरभाष क्रमांक 0755-2558823 पर कॉल करके कृषक फसल बीमा, आधार-कार्ड (Aadhar card) एवं खाते की जानकारी में सुधार, कृषि संबंधी योजनाओं की जानकारी ले सकते हैं। कृषि संबंधी योजना के लाभ से वंचित कृषक अपनी कठिनाइयाँ बता सकते हैं और अन्य कोई भी कृषि संबंधी सुझाव दे सकते हैं। कृषकों द्वारा राज्य-स्तरीय कार्यक्रम का सजीव प्रसारण ग्राम पंचायत, विकासखण्ड एवं जिला मुख्यालय पर देखा गया।