Haridwar Kumbh: पहली बार एक माह का होगा कुंभ मेला, जाने जरूरी बातें

उत्तराखंड उच्च न्यायालय (Uttarakhand high court)  ने हरिद्वार (Haridwar) कुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए कोविड-19 की रिपोर्ट, जिसमें उनके संक्रमित ना होने की पुष्टि हो या टीकाकरण रिपोर्ट लाना अनिवार्य कर दिया है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। हर 12 वर्ष में एक बार आने वाले कुंभ (kumbh) का सबको बेसबरी से इंतजार रहता है। लेकिन, इस बार कोरोना (Corona) के कारण कुंभ पर भी खास असर पड़ा है। हरिद्वार कुंभ के संबंध में औपचारिक अधिसूचना (Formal notification) जारी कर दी गयी है। कोरोना काल के चलते कुंभ जैसे धार्मिक आयोजन के समय को कम कर इसकी अवधी एक माह कर दी गई है। जिसका समय 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक रहेगा। हर बार जहां कुंभ साढ़े तीन माह तक चलता है, वो घट कर एक महीने चलेगा।
बता दें कि 2014 में कुंभ 14 जनवरी को शुरू हुआ था और 28 अप्रैल तक चला था।

ये भी पढे़- Sagar News : परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत बने ड्राइवर, चलाई बस

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने जारी किये आदेश
अधिसूचना में लिखा है कि एक अप्रैल से 30 अप्रैल के बीच 12 अप्रैल, 14 अप्रैल और 27 अप्रैल को तीन दिन प्रमुख शाही स्नान होंगे। साथ ही 13 अप्रैल को चैत्र प्रतिपदा और 21 अप्रैल को होने वाले राम नवमी के पर्व पर भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचें सकेंगे। ऐसे में कोरोना वायरस (Corona virus) के खतरे को देखते हुए उत्तराखंड उच्च न्यायालय (Uttarakhand high court)  ने हरिद्वार (Haridwar) कुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए कोविड-19 की रिपोर्ट, जिसमें उनके संक्रमित ना होने की पुष्टि हो या टीकाकरण रिपोर्ट लाना अनिवार्य कर दिया है।

ये भी पढे़- 10 दिन पहले की थी युवक ने अत्माहत्या, पुलिस ने आज किया खुलासा, सास-बहु ने मिलकर की थी युवक की पिटाई

लाना होगी RT-PCR की निगेटिव रिपोर्ट

साथ ही इस  बारे में जब प्रदेश के मुख्य सचिव ओम प्रकाश से बात की गई तो उन्होंने कहा कि उत्तराखंड उच्च न्यायालय (Uttarakhand High Court)ने स्पष्ट आदेश दिए हैं कि हरिद्वार कुंभ में आने के लिए 72 घंटे पहले की COVID-19 की आरटी-पीसीआर की नकारात्मक (Negative) जांच रिपोर्ट या टीकाकरण (Vaccination) रिपोर्ट लाना जरूरी होगा। उन्होंने कहा कि पूर्व में केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के क्रम में सभी जिला प्रशासनों, राज्य और केंद्र सरकार के विभिन्न संगठनों तथा अन्य हितधारकों को मास्क पहनने, बार—बार हाथ धोने तथा सामाजिक दूरी बनाए रखने जैसे विभिन्न उपायों के सख्त अनुपालन सुनिश्चित कराने को भी कहा गया है।