मध्य प्रदेश में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ी, शिवराज और कांग्रेस के कई मंत्री दिल्ली रवाना

भोपाल/दिल्ली। दिग्विजय सिंह (digvijay singh) के बीजेपी (bjp) पर हॉर्स ट्रेडिंग (horse treading) के गंभीर आरोपों के बाद जहां मध्यप्रदेश (madhyapradesh) में कांग्रेस (congress) भाजपा (bjp) के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है वहीं अब दिल्ली (delhi) में भी सरगर्मी बढ़ गई है । पूर्व मुख्यमंत्री (former chief minister) शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) अचानक दिल्ली रवाना हो गए हैं जहां वे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से बात करेंगे ।इसी के साथ कांग्रेस के दो मंत्री जीतू पटवारी (jitu patwari) और जयवर्धन सिंह (jayvardhan singh) भी दिल्ली गये हैं और संभावना इस बात की है कि वे भी वहां जाकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करेंगे।

मंगलवार को बीजेपी के प्रदेश कार्यालय में चल रही विधायकों की बैठक में बीजेपी के दो विधायक शरद कोल (sharad kol) और नारायण त्रिपाठी (narayan tripathi) के न पहुंचने से एक बार फिर सियासी पारा बढ़ गया। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के दो विधायकों वैजनाथ सिंह (vaijnath singh) और राहुल लोधी (rahul lodhi) ने यह आरोप लगाए कि उन्हें भी खरीदने की बीजेपी ने पुरजोर कोशिश की। इस बीच कांग्रेस के कई मंत्रियों के बयान भी आए कि हॉर्स ट्रेडिंग की लाख कोशिशों के बावजूद कांग्रेस पूरी तरह से एक है और सरकार को कोई भी खतरा नहीं है। मुख्यमंत्री (chief minister) कमलनाथ (kamalnath) ने तो यहां तक बोल दिया कि मैंने कांग्रेस विधायकों से कहा है कि यदि कोई पैसे देता है तो वह पैसे रख ले। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि आने वाले दिनों में मध्य प्रदेश की राजनीति का ऊंट किस करवट बैठेगा।