मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया की पंचायत सचिव और रोजगार सहायकों को चेतावनी

अब पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया ने प्रदेश के सभी ग्राम पंचायत सचिवो व रोजगार सहायकों को निर्देश दिए है कि मुख्यालय पर दो दिन उपस्थित रहे, अगर ऐसा नही हुआ तो कार्रवाई की जाएगी।

Mahendra Singh Sisodia

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। पिछली कैबिनेट बैठक (Cabinet meeting) में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) के निर्देश के बाद मंत्रियों के कामों में एक्टिवनेस आ गई है। मंत्री लगातार अपने विभाग के कामों पर ना सिर्फ ध्यान दे रहे है बल्कि अधिकारियों-कर्मचारियों (Officers And Employees) को सख्त निर्देश भी दे रहे है। अब पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया ने प्रदेश के सभी ग्राम पंचायत सचिवो व रोजगार सहायकों को निर्देश दिए है कि मुख्यालय पर दो दिन उपस्थित रहे, अगर ऐसा नही हुआ तो कार्रवाई की जाएगी।

दरअसल, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया (Panchayat and Rural Development Minister Mahendra Singh Sisodia) ने प्रदेश के सभी ग्राम पंचायत सचिवो व रोजगार सहायकों (Gram Panchayat Secretaries and Employment Assistants) को निर्देश दिए है कि वे सप्ताह में प्रत्येक सोमवार और गुरुवार (Monday and thursday) को ग्राम पंचायत मुख्यालय में बैठ कर कार्य संपादित करें। मंत्री सिसोदिया ने सभी जनपद पंचायत के कार्यपालन अधिकारियों को इस संबंध में सतत निरीक्षण करने के निर्देश भी दिए है। सभी सचिव व रोजगार सहायक ग्राम पंचायत मुख्यालय में रहकर शासन की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी ग्रामीणों को दें, क्योंकि जानकारी के अभाव में ग्रामीण जन योजनाओं का लाभ होने से वंचित रह जाते है वे वहां उपस्थित रहकर उनके आवेदन आदि प्राप्त करे ।

वही मंत्री ने चेतावनी भी दी है कि यदि नियत दिनांक को ग्राम पंचायत मुख्यालय पर ग्राम पंचायत सचिव तथा ग्राम रोजगार सहायक उपस्थित नहीं रहते है तो ऐसी दशा में संबंधित जनपद पंचायत व जिला पंचायत (District Panchayat and District Panchayat) के मुख्य कार्यपालन अधिकारी (Chief Executive Officer) को उत्तरदायी माना जाकर उनके विरूद्ध भी कार्यवाही की जाएगी

CM ने पिछली कैबिनेट बैठक में कहा था- अब हर माह विभागों की रेटिंग होगी

दरअसल, उपचुनाव (Byelection) के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में मंत्रियों को दो टूक कहा गया था कि आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का रोड मैप तैयार है। मंत्री गण इसे तेजी से अमल में लाएं। हमें एक दिन भी व्यर्थ नहीं करना है, हमें परिणाम देना है। केंद्र की हर योजना में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) को नंबर वन रहना है। सरकार बहुमत में आने के बाद जिम्मेदारी भी बढ़ी है। मुख्यमंत्री ने यह भी निर्देश दिए थे कि अब हर माह विभागों की रेटिंग की जाएगी। मंत्रियों को हर माह रिपोर्ट कार्ड (Report Card) पेश करना होगा। हर सोमवार (Every Monday) को प्रत्येक मंत्री अपने विभाग की समीक्षा भी करेगा। सीएम डेस्क बोर्ड का गठन किया जा रहा है और हर विभाग की प्रगति रिपोर्ट इसमें आएगी।इसके बाद से ही मंत्री अपने अपने विभागों को लेकर अलर्ट हो गए है।