भाजपा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। नर्मदा में अवैध उत्खनन को लेकर लगातार मुखर रहे मध्य प्रदेश के कृषि विकास व किसान कल्याण मंत्री कमल पटेल (kamal patel) ने एक बार फिर तीखे तेवर दिखाए हैं। उन्होंने जबलपुर के संभाग आयुक्त को पत्र लिखा है और इस पत्र में नरसिंहपुर जिले में नर्मदा नदी में पोकलेन मशीन व पनडुब्बी लगाकर रेत के अवैध उत्खनन (illegal excavation) के बारे में बताया है।

उन्होंने लिखा है कि मेरे द्वारा कलेक्टर नरसिंहपुर को 17 फरवरी को तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए गए थे लेकिन कलेक्टर ने कोई कार्रवाई नहीं की। नर्मदा में लगातार अवैध उत्खनन जारी है और जिला प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। कमल पटेल ने यह भी लिखा है कि यह साफ है कि अवैध उत्खनन जिला प्रशासन की मिलीभगत के बिना संभव नहीं और प्रशासनिक अधिकारी जिनका कि यदि दायित्व है कि वह अवैध उत्खनन के खिलाफ कार्यवाही करें, उनके द्वारा कार्रवाई न करने से अवैध उत्खनन लगातार बढ़ता जा रहा है। कमल पटेल ने आगे लिखा है कि अवैध उत्खनन को रोकने के लिए जिला नरसिंहपुर के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ तत्काल अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाए और अवैध उत्खनन करने वाले वाहनों को राजसात किया जाए। रेत के ठेकेदार द्वारा अवैध उत्खनन किया जा रहा है, उनके ठेके निरस्त भी किए जाएं और उनके ऊपर रासुका भी लगाई जाए। इसके साथ ही उन्होंने संभाग के नरसिंहपुर जिले के अलावा अन्य जिलों में भी नर्मदा में किए जा रहे अवैध रेत उत्खनन के प्रकरणों में सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं और जिला कलेक्टरों से इन निर्देशों का पालन कराने के लिए भी संभागायुक्त को लिखा है। विपक्ष लगातार प्रदेश में अवैध खनन के आरोप लगाता रहा है और ऐसे में एक मंत्री का यह पत्र आने वाले विधानसभा क्षेत्र में बीजेपी के लिए मुसीबत का सबब बन सकता है।

इस मंत्री ने कमिश्नर को लिखा कलेक्टर के खिलाफ पत्र, अवैध उत्खनन के आरोप

इस मंत्री ने कमिश्नर को लिखा कलेक्टर के खिलाफ पत्र, अवैध उत्खनन के आरोप