MP Board: इस पैटर्न पर चेक होंगी 10वीं और 12वीं कॉपियां, जल्द जारी होगा रिजल्ट

एक एक विषय के रिजल्ट (Result) जारी करने के दो फायदे होंगे। एक तो छात्रों (Student) को ज्यादा इंतजार नही करना पड़ेगा और दूसरा कम नंबर आने पर छात्र अपनी उत्तर पुस्तिकाओं का पुनर्मूल्यांकन भी करा सकेंगे।

MP Board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के 10वीं और 12वीं (10th -12th Board Exam) के छात्रों बड़े काम की खबर है। पुराने पैटर्न पर परीक्षा करवाने के साथ इस बार माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education-MP Board) ने 10वीं हाई स्कूल (High School) एवं 12वीं हाई सेकेंडरी स्कूल (high Secondary School) की जिले में ही कॉपियां जांचने का फैसला लिया है, ताकी रिजल्ट जल्द जारी किया जा सके।

यह भी पढ़े.. MP के उच्च शिक्षा विभाग का एक और बड़ा निर्णय, अधिकारियों को जारी किए निर्देश

दरअसल, कोरोना के चलते इस बार MP Board की10वीं और 12वीं कीअप्रैल के लास्ट वीक में शुरु होंगी। इसके लिए प्रश्न बैंक (question bank) और  प्रायोगिक परीक्षा (practical exam) की तारीख जारी कर दी गई है। इस बार दो पाली में परीक्षाएं- पहली 30 अप्रैल से 15 मई तक और दूसरी परीक्षा 1 से 15 जुलाई तक आयोजित होगी। इसमें ऑनलाइन और ऑफलाइन (Online-Ofline ) दोनों के ऑप्शन होंगे।

यह भी पढ़े.. MP में कक्षा 1 से 8वीं के School खोलने पर स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का बड़ा बयान

MP Board ने ब्लू प्रिंट और पैटर्न में बार बार बदलाव के बाद अब बोर्ड  जिले में ही कॉपियां जांचने का फैसला किया है, ताकी निकाय चुनावों का असर रिजल्ट पर ना पड़े और जून से पहले इसे घोषित किया जा सके।इसके तहत पहले एक विषय का पेपर होने के बाद दूसरे दिन ही उस विषय की कॉपियां जांचने का काम शुरू कर दिया जाएगा। साथ ही एक-एक विषय का रिजल्ट समन्वयक केंद्रों से बोर्ड को ऑनलाइन भेजा जाएगा, जिससे विषयवार रिजल्ट भी माशिमं ( की वेबसाइट पर प्रदर्शित होने लगेगे।

एक एक कॉपी का रिजल्ट होगा अपलोड

इतना ही नहीं MP Board की योजना है कि कोरोना और शैक्षणिक सत्र 2021-22 में देरी होने के चलते इस बार विषयवार कॉपियों का परिणाम बोर्ड की वेबसाइट  पर अपलोड कर दिया जाएगा। एक एक विषय के रिजल्ट (Result) जारी करने के दो फायदे होंगे। एक तो छात्रों (Student) को ज्यादा इंतजार नही करना पड़ेगा और दूसरा कम नंबर आने पर छात्र अपनी उत्तर पुस्तिकाओं का पुनर्मूल्यांकन भी करा सकेंगे। इसके लिए पहले सप्ताह कॉपियों का पुनर्मूल्यांकन कराने पर 100 रुपये फीस और उसके बाद 50 रुपये लगेंगे लेकिन उसके बाद कोई शुल्क नहीं लगेगा।अभी तक बोर्ड के विद्यार्थी सिर्फ पुनर्गणना के लिए आवेदन करना पड़ता था, लेकिन अब दोनों के लिए आवेदन करने की सुविधा दी जा रही।

विशिष्ट भाषा की अनिवार्यता समाप्त

इसके अलावा MP Board ने इस बार 10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों को विशिष्ट विषय चयन करने की बाध्यता भी नहीं होगी, क्योंकि MP Board ने  विशिष्ट भाषा की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है, जिसके तहत अब छात्र-छात्राएं अंग्रेजी विशिष्ट के स्थान पर सामान्य अंग्रेजी एवं हिंदी विशिष्ट के स्थान पर सामान्य हिंदी विषय चुन सकते हैं। इतना ही नहीं प्रोफेशनल एज्युकेशन लेने वाले छात्रों के लिए हिंदी और अंग्रेजी में से एक भाषा तथा अन्य भाषाओं में से किसी एक भाषा को चुनने का विकल्प पूर्व अनुसार ही मान्य रहेगा।