MP Corona: एक्टिव केस 800 पार, 24 घंटे में 130 नए पॉजिटिव, भोपाल समेत इन जिलों ने बढ़ाई टेंशन

24 घंटे में 6652 जांच में 130 नए पॉजिटिव सामने आए है और 111 मरीज ठीक हुए है, जिसके बाद एक्टिव केसों की संख्या 807 पहुंच गई है।

mp corona today

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में लगातार बढ़ते कोरोना केसेस ने टेंशन बढ़ा दी है। आए दिन 100 के पार केस मिल रहे है। रविवार ईद के मौके पर फिर बड़ा विस्फोट हुआ है। रविवार को जारी बुलेटिन के अनुसार, 24 घंटे में 6652 जांच में 130 नए पॉजिटिव सामने आए है और 111 मरीज ठीक हुए है, जिसके बाद एक्टिव केसों की संख्या 807 पहुंच गई है।

यह भी पढ़े.. पुरानी पेंशन बहाली की मांग तेज, कर्मचारियों का फूटा गुस्सा, राज्य सरकार को दी ये चेतावनी

पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 14 जिलों में नए संक्रमित मिले है। इंदौर में सबसे ज्यादा 58 और भोपाल में 37 , बालाघाट में 2, बैतूल में 1, ग्वालियर में 4, होशंगाबाद में 4, जबलपुर में 10, कटनी में 1, खंडवा में 2, नरसिंहपुर में 4, रतलाम में 2, सागर में 1, सीहोर में 3, विदिशा में 1 संक्रमित मिला है।अब तक 10 लाख 45 हजार 532 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 10 लाख 33 हजार 980 ठीक हो गए। कोरोना के कारण 10745 लोगों की जान जा चुकी है।

इसमें राजधानी भोपाल की बात करें तो शहर में सात दिन में 211 एक्टिव केस मिले हैं यानी औसतन 30 केस हर दिन सामने आ रहे हैं। सबसे अधिक एक्टिव केस रविवार को सामने आए हैं। जबकि दो बार ऐसा हुआ कि एक ही दिन में 33-33 केस सामने आए।वही इंदौर में जुलाई के पहले 9 दिन में 458 संक्रमित मिल चुके हैं यानी जुलाई की औसत संक्रमण दर भी 10 प्रतिशत से ऊपर चल रही है। 24 मार्च 2020 को इंदौर में पहला कोरोना संक्रमित मिला था। अब तक इंदौर में 2,09,133 संक्रमित मिले हैं। इन संक्रमितों में से 2,07,302 पूरी तरह से ठीक भी हो चुके हैं और जान गंवाने वालों की संख्या 1463 है।

यह भी पढ़े.. पेंशनभोगियों के लिए बड़ी खुशखबरी! एक साथ खाते में ट्रांसफर होगी पेंशन की राशि, 73 लाख को मिलेगा लाभ

हैरानी की बात तो ये है कि लगातार बढते केसों के बावजूद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट नहीं नजर आ रहा है।रोजाना 25 से 30 प्रतिशत सैंपलिंग ही मध्य प्रदेश और भोपाल में हो रही है, जबकी प्रदेश में हर दिन 25 हजार सैंपल लेने का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन रोज 7 हजार से भी कम जांचें हो रही हैं। इस बढ़ते केसों के बीच राहत की बात ये है कि कोरोना वायरस का कोई नया या घातक वैरिएंट नहीं आया है, वरना स्थिति गंभीर भी हो सकती थी।