MP में जल्द शुरू होगी 3 हजार करोड़ यह योजना, 80 गांवों के किसानों को मिलेगा लाभ

रिकार्डेड 75 दिनों में सरकार ने काटकूट क्षेत्र की सिंचाई उद्व्हन योजना को स्वीकृति प्रदान की है।

mp farmers उद्वहन सिंचाई योजना

भोपाल, खरगोन/ डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के किसानों (MP Farmers) के लिए अच्छी खबर है। मध्य प्रदेश में जल्द ही करीब 3 हजार करोड़ रुपए की उद्वहन सिंचाई योजना (udvahan sinchaee yojana) शुरु होगी, इससे 80 गांवों के किसानों को लाभ मिलेगा।वही खरगोन में टैक्सटाइल पार्क बनेगा और जल्द ही 10 करोड़ की लागत के एग्रो बेस्ड फूड क्लस्टर का भी लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़े.. MP College: इन छात्रों का डाटा होगा तैयार, शासन को जल्द भेजा जाएगा ये प्रस्ताव

शिवराज सरकार में कृषि मंत्री और खरगोन जिले के प्रभारी मंत्री कमल पटेल (Kamal Patel) ने कहा है कि किसानों की आय को दोगुना करने के लिए सरकार के द्वारा निरंतर प्रयत्न किए जा रहे हैं।  खरगोन जिले के काटकूट क्षेत्र के 80 गाँवों के किसानों को लाभान्वित करने के लिए शीघ्र ही 2 हजार 863 करोड़ रुपए की सिंचाई उद्वहन योजना का भूमि-पूजन किया जाएगा।खरगोन के सर्वांगीण विकास में कोई कमी नहीं आने देंगे। रिकार्डेड 75 दिनों में सरकार ने काटकूट क्षेत्र की सिंचाई उद्व्हन योजना को स्वीकृति प्रदान की है।  सरकार गाँव के लोगों को गाँव में ही रोजगार उपलब्ध कराने के लिए भी दृढ़- संकल्पित है।

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्री  ओम प्रकाश सकलेचा (Om Prakash Saklecha) ने कहा कि खरगोन में टेक्सटाइल पार्क विकसित किया जाएगा। मंत्रीद्वय ने सनावद में 6.779 हेक्टेयर क्षेत्र में बनने वाले एग्रो बेस्ड फूड क्लस्टर का भूमि-पूजन किया। खरगोन क्षेत्र में कपास का अत्यधिक मात्रा में उत्पादन होता है, ऐसे में जल्द टेक्सटाइल पार्क विकसित किया जाएगा, जिससे क्षेत्र के हजारों युवाओं को रोजगार मिलेगा। कपास के उत्पादन के बाद टेक्सटाइल मिलों में कपड़े का उत्पादन होगा। सरकार के द्वारा उद्योग लगाने के लिए अनुदान पर करोड़ों रुपए की राशि उपलब्ध कराई जा रही है। एक करोड़ रुपए तक के उद्योग लगाने पर 40 % और दस करोड़ रुपए के उद्योग के लिए 50 % अनुदान प्रदान किया जा रहा है।

 एग्रो बेस्ड फ़ूड क्लस्टर 

कृषि मंत्री  पटेल और एमएसएमई मंत्री सकलेचा ने सनावद में 9 करोड़ 68 लाख 83 हजार रुपए की लागत से बनने वाले एग्रो बेस्ड फूड क्लस्टर का भूमि-पूजन किया। क्लस्टर के निर्माण में भारत सरकार के द्वारा 5 करोड़ रुपए की राशि प्रदान की जा रही है, जबकि प्रदेश सरकार के द्वारा चार करोड़ 68 लाख रुपए प्रदान किए जा रहे हैं। भारत सरकार द्वारा देश में निर्मित किए जा रहे 13 नए क्लस्टर में से सनावद का क्लस्टर भी शामिल है। इसके निर्मित हो जाने से क्षेत्र में कई उद्योगों के स्थापित होने की संभावनाएँ हैं। इससे क्षेत्र के युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार प्राप्त होगा।