MP Flood: ग्वालियर पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया, देर रात बुलाई बैठक, अधिकारियों को दिये निर्देश

ज्योतिरादित्य सिंधिया  ने यह भी कहा कि ग्वालियर चंबल संभाग (Gwalior Chambal Division) के आठों जिलों के कलेक्टर (Collectors) रात भर बैठ कर पूरी प्लानिंग तैयार करें और मुझे अवगत कराएं।

ज्योतिरादित्य सिंधिया

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) शनिवार की देर रात ग्वालियर (Gwalior) पहुंचे। उन्होंने आधी रात को अधिकारियों के साथ बैठकर बाढ़ (MP Flood) के हालत और अब तक की प्रशासनिक व्यवस्थाओं की जानकारी ली और अधिकारियों को निर्देश दिये कि बाढ़ प्रभावित लोगों के लिए किसी भी तरह की कमी नहीं रहनी चाहिए। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तीन फेज के आधार पर कार्य योजना बनाने के निर्देश दिये। वे आज रविवार को ग्वालियर अंचल के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेंगे।

यह भी पढ़े.. MP News: सरकारी कर्मचारी-अधिकारियों के लिए काम की खबर, जारी हुए ये निर्देश

शनिवार रात ग्वालियर में स्मार्ट सिटी कन्ट्रोल कमांड सेंटर में ज्योतिरादित्य सिंधिया  ने रात 1 बजे तक अफसरों की बैठक ली । इस दौरान ग्वालियर चंबल संभाग के सभी जिलों में बाढ़ से उत्पन्न स्थिति तथा धन एवं जनहानि का आकलन किया समीक्षा की तथा भविष्य में इसकी पुनरावृत्ति ना हो उसके लिए दूरगामी रणनीति बनाने के निर्देश दिए। सिंधिया ने कहा कि जिन लोगों की जनहानि हुई है उन्हें तत्काल आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने और अन्य नुकसान का सर्वे करने के लिए प्रत्येक गांव में एक वरिष्ठ अधिकारी के नेतृत्व में विभागों की पूरी टीम नुकसान का आकलन करें ।

ज्योतिरादित्य सिंधिया  ने यह भी कहा कि ग्वालियर चंबल संभाग (Gwalior Chambal Division) के आठों जिलों के कलेक्टर (Collectors) रात भर बैठ कर पूरी प्लानिंग तैयार करें और मुझे अवगत कराएं।वही अधिकारी मौसम विभाग (MP Meteorological Department) के लगातार संपर्क में रहें जिससे पता लग सके किस इलाके में बारिश (Heavy Rain) होने वाली है उस इलाके में पहले से व्यवस्था की जाए बांधों की स्थिति पर भी नजर रखी जाए ताकि बाढ़ जैसे हालातों से निपटा जा सके।

यह भी पढ़े.. इस्तीफे की अटकलों के बाद सामने आया स्वास्थ्य मंत्री का बड़ा का बयान

सिंधिया ने कहा कि बाढ़ के हालात कल्पना से परे हैं, किसी ने ऐसे हालात की कल्पना भी नही की होगी। उन्होंने कहा कि मुसीबत की इस घड़ी में केंद्र और राज्य सरकार (central and state government ) लोगों के साथ है और उनको राहत पहुंचाने की भरपूर कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि उन्हें पता है कि कई लोगों ने अपनों को खोया है कई लोगों के मकान पूरी तरह से धराशाई हो गए हैं पशु धन की भी बहुत हानि हुई है इसको लेकर वह लगातार क्षेत्र में जाकर लोगों से मुलाकात करेंगे और उनके दुख दर्द का जानने की कोशिश करेंगे।