MP: 4 कर्मचारी निलंबित, 2 CMHO को नोटिस, 3 का वेतन काटा, 5 पंचायत सचिवों पर जुर्माना

सूचना पत्र का जबाव 7 दिवस के अंदर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये है। समय-सीमा में जबाव प्रस्तुत न होने पर एकपक्षीय अग्रिम कार्यवाही की जायेगी।

mp NEWS

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP News) में शासकीय कामों में लापरवाही पर अधिकारियों-कर्मचारियों पर कार्रवाई का सिलसिला जारी है। मुरैना में सीईओ और नरसिंहपुर में 3 पंचायत सचिव को निलंबित कर दिया गया है। वही मुरैना में 2 सीएमएचओ को नोटिस, धार में 2 सीईओ औ शहडोल में 1 डाटा एंट्री ऑपरेटर के वेतन में कटौती की गई है।इसके अलावा 5 पंचायत सचिवों पर जुर्माना भी लगाया गया है।

कर्मचारियों को बड़ी राहत, रिलीफ फंड की राशि हुई दोगुनी, जानें अब कितना मिलेगा पैसा

मुरैना कलेक्टर (Morena Collector) बी.कार्तिकेयन के प्रतिवेदन के आधार पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत पहाडगढ़ एपी प्रजापति को चंबल कमिश्नर आशीष सक्सेना ने तत्काल प्रभाव से निलंबित (Suspended) कर दिया है। निलंबन अवधि में इनका मुख्यालय जिला पंचायत भिण्ड रहेगा।

नरसिंहपुर में ग्राम पंचायत के कार्यों में लापरवाही बरतने, विकास कार्यों में रूचि नहीं लेने, मनमानी करने व स्वेच्छाचारिता बरतने के आरोप में जनपद पंचायत गोटेगांव की पंचायत सचिव ग्राम पंचायत सचिव बेलखेड़ी शेढ़ प्रीतम पटैल, ग्राम पंचायत सचिव सांकल प्रदीप पटेल और ग्राम पंचायत सचिव जमुनिया नरेन्द्र चौकसे को मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत डॉ. सौरभ संजय सोनवणे ने तत्काल प्रभाव से निलंबित किया है। निलंबन अवधि में तीनों ग्राम पंचायत सचिव का मुख्यालय जिला पंचायत कार्यालय नरसिंहपुर रहेगा और उन्हें नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी।

2 सीईओ के 3-3 दिवस का वेतन काटा

धार में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आशीष वशिष्ट ने सीएम हेल्पलाईन (CM Helpline) में दर्ज षिकायतों का समय सीमा में निराकरण नहीं किए जाने पर 2 जनपदों के सीईओ (CEO) का 3-3 दिवस का वेतन कटोत्रों किए जाने का आदेश जारी किया है। आदेश के तहत जनपद पंचायत सरदारपुर के मुख्य कार्यपालन अधिकारी शैलेन्द्र कुमार शर्मा एवं जनपद पंचायत नालछा के मुख्य कार्यपालन अधिकारी माया बारिया का 3-3 दिवस का वेतन कटौती की जाएगी। यह आदेश तत्काल प्रभावशील होगा।

5 दिवस का वेतन काटा

शहडोल CMHO डॉ. एम.एस. सागर कोविड वैक्सीननेशन महाअभियान के अंतर्गत जिले के भ्रमण के दौरान पाया कि डाटा एंट्री ऑपरेटर राम राज सिंह अपने कार्य में अनुपस्थित हैं तथा पूछताछ के पश्चात डाटा एंट्री ऑपरेटर राम राज सिंह अपने ड्यूटी पर नहीं पाए गए तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा भौतिक टीकाकरण तथा पोर्टल टीकाकरण का मिलान किया गया तब पाया कि 2 हितग्राहियों के भौतिक टीकाकरण हो चुके हैं तथा पोर्टल में इंट्री नहीं है। मौके पर ही CMHO ने ANM एवं अन्य स्टाफ से चर्चा किया तथा उपस्थित कर्मचारियों से डाटा एंट्री ऑपरेटर के संबंध में जानकारी प्राप्त की जो उचित जानकारी नहीं बता सके तथा पोर्टल पर छूटे हुए 2 हितग्राहियों के क्या नाम है अर्थात भौतिक टीकाकरण होने के बावजूद पोर्टल पर इंट्री नहीं होने लक्ष्य प्राप्ति मंसा अनुरूप नहीं हो सकी। यह अत्यंत गंभीर लापरवाही एवं अनुशासनहीनता है। जिस पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने दंड सरुप पांच दिवस कब वेतन कटौती किया है। तथा भविष्य में मानदेय आहरण किया जाता है तो इसे वित्तीय अनियमितता माना जाएगा।

 5 ग्राम पंचायतों के सचिवों पर शास्ति अधिरोपित

अनुपपुर में अपर कलेक्टर सरोधन सिंह ने म.प्र. लोक सेवाओं के प्रदान की गारंटी अधिनियम के तहत समय-सीमा में आवेदकों को सेवाएं प्रदाय ना करने पर जिले के 5 ग्राम पंचायतों के सचिवों जनपद पंचायत अनूपपुर अंतर्गत ग्राम पंचायत दैखल के सचिव सतानन्द शर्मा, जनपद पंचायत जैतहरी अंतर्गत ग्राम पंचायत केल्हौरी के सचिव पुष्पेन्द्र पाण्डेय, जनपद पंचायत जैतहरी अंतर्गत ग्राम पंचायत वेंकटनगर के सचिव सोहन सिंह, जनपद पंचायत जैतहरी अंतर्गत ग्राम पंचायत खाड़ा के सचिव वृन्दावन कोल, जनपद पंचायत पुष्पराजगढ़ अंतर्गत ग्राम पंचायत किरगी के सचिव फूलचन्द सिंह मरावी पर 500-500 रुपये की शास्ति अधिरोपित की है।

2 CMHO को नोटिस

मुरैना में विगत 11 नवम्बर को चंबल कमिश्नर (Chambal Commissioner) आशीष सक्सेना ने गूगल मीट के माध्यम से चंबल संभाग की समीक्षा की। जिसमें श्योपुर के CMHO डॉ. बच्चन लाल यादव बिना सूचना के अनुपस्थित पाये गये। चंबल कमिश्नर ने इसे घोर लापरवाही एवं उदासीनता मानते हुये डॉ. बच्चन लाल यादव को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। वही गूगल मीट में बिना सूचना के उपस्थित रहने पर सीएमएचओ डॉ. एडी शर्मा भी नोटिस जारी किया गया है। सूचना पत्र का जबाव 7 दिवस के अंदर प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये है। समय-सीमा में जबाव प्रस्तुत न होने पर एकपक्षीय अग्रिम कार्यवाही की जायेगी।