MP News : ‘कांग्रेस का DNA ही पाकिस्तान परस्त,’ दिग्विजय सिंह के बयान पर भड़के सीएम शिवराज

सर्जिकल स्ट्राइक वाले बयान पर मुख्यमंत्री का पलटवार, कमलनाथ के वचन पत्र को लेकर उठाए सवाल

CM Shivraj on Digvijay Singh’s surgical strike statement : राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह के सर्जिकल स्ट्राइक पर दिए बयान को लेकर सियासी बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस के डीएनए ही पाकिस्तान परस्ती का है। उन्होने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा में राहुल गांधी के साथ चलते हुए उन्होने ये बात कही है और मैं राहुल जी से ये जवाब मांगता हूं कि ये कैसी यात्रा है जिसमें टुकड़े-टुकड़े गैंग साथ चल रहा है। वो सेना का मनोबल गिरा रहे हैं और ये कांग्रेस का बड़ा अपराध है।

कांग्रेस को बताया पाकिस्तान परस्त

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस और दिग्विजय सिंह को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि ‘कांग्रेस का DNA ही पाकिस्तानी परस्ती का है। कभी सर्जिकल स्ट्राइक तो कभी राम के अस्तित्व तो कभी रामसेतु के सबूत मांगते हैं। राहुल गांधी जी के साथ भारत जोड़ो यात्रा में चलते हुए दिग्विजय सिंह जी फिर से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांग रहे हैं। वे हमारी सेना का मनोबल गिरा रहे हैं।’ उन्होने कहा कि ‘मैं तो राहुल गांधी जी से जवाब मांगता हूं कि यह कैसी भारत जोड़ो यात्रा है, टुकड़े टुकड़े गैंग आपके साथ चल रही है। आप भी सेना के कमजोर होने की बात कर रहे हैं। हमारी सेना का मनोबल गिराने का पाप और अपराध तो कम से कम कांग्रेस न करे।’ उन्होने कहा कि इस बयान से साबित होता है कि वो पाकिस्तान के साथ खड़े हैं।

वचन पत्र पर कमलनाथ को घेरा

वहीं पीसीसी चीफ कमलनाथ द्वारा वचन पत्र बनाने की बात पर भी मुख्यमंत्री ने पलटवार किया है। उन्होने कहा कि ‘कमलनाथ जी केवल वचन पत्र पर लिखने का ढोंग करते हैं। हमने रानी कमलापति जी के नाम पर रेलवे स्टेशन, टंट्या मामा के नाम पर स्मारक, भीमा नायक के नाम पर स्मारक, रघुनाथ शाह-शंकर शाह जी का स्मारक, छिंदवाड़ा मेडिकल कॉलेज का नाम, एक नहीं ऐसे अनेकों काम जनजातीय नायकों के नाम पर किये हैं। कांग्रेस केवल छल करना जानती है। मैं कांग्रेस से पूछना चाहता हूं कि आपने पेसा नियम लागू करने का जनजातीय भाई-बहनों को वचन दिया था, तब आपने नियम क्यों नहीं बनाये? आपने कहा था कि जिला स्तरीय आदम जाति मंत्रणा समिति बनाएंगे, आपने कौन सी पहल की?’ उनसे जवाब मांगते हुए सीएम ने कहा कि ‘कमलनाथ जी जवाब दें कि विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा, भारिया और सहरिया परिवारों को जो मैं हर महीने ₹1000 राशि देता था, जब आपकी 15 महीने सरकार रही, तो आपने वह पैसा देना बंद क्यों किया?’ मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को कटघरे में ख़ड़ा करते हुए कहा कि क्या उसे आदिवासियों के साथ वादाखिलाफी के बाद उनके बारे में बात करने का अधिकार है। उन्होने कहा कि सवा साल में उन्होने आदिवासियों के लिए कौन सी पहल की है। उन्होने वचन पत्र को ढोंग करार देते हुए कहा कि कांग्रेस हमेशा से उनके साथ सिर्फ छल करती आ रही है।