भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश की राजनीति में मेल मुलाकातों का दौर जारी है और इन सब के बीच प्रदेश बीजेपी की राजनीति का पारा लगातार ऊपर चढ़ रहा है। आज अलसुबह प्रदेश के एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा (Narottam Mishra) के मिलने बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री जयभान सिंह (Jaibhan Singh Pawaiya) पवैया पहुंचे।

खत्म होगा डेढ़ साल का इंतजार, मंत्रियों को जल्द मिलेंगे जिलों के प्रभार

जून की तपती गर्मी ने मध्य प्रदेश की राजनीति को भी गर्मी से भर दिया। माह की शुरुआत से ही प्रदेश बीजेपी में मेल मुलाकातों का जो दौर शुरू हुआ, वह अब तक जारी है। सोमवार को सुबह प्रदेश के गृह एवं जेल मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा से मिलने पूर्व मंत्री और हिंदूवादी कट्टर बीजेपी नेता माने जाने वाले जयभान सिंह पवैया पहुंचे। दोनों के बीच बंद कमरे लगभग आधा घंटा बातचीत हुई। हालांकि बाहर आकर दोनों ने इसे सामान्य शिष्टाचार मुलाकात कहा लेकिन एक बार फिर राजनीतिक पंडितों के कान खड़े हो गए हैं।

दरअसल पवैया ग्वालियर चंबल अंचल में कट्टर सिंधिया विरोधी माने जाते हैं। लेकिन पिछले कुछ दिनों से उनके सिंधिया से बदले समीकरण चर्चा में है। ग्वालियर प्रवास के दौरान जय भान सिंह पवैया के निवास पर ज्योतिरादित्य सिंधिया संवेदना प्रगट करने थे और तब से लेकर यही माना जा रहा था कि एक बार फिर वाली चंबल की राजनीति एक नया रंग लेने वाली है। ग्वालियर-चंबल की बात करें तो यहां बीजेपी में दिग्गजों की भरमार है जिनमें केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा, ज्योतिरादित्य सिंधिया, नरोत्तम मिश्रा, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रहे प्रभात झा, अनूप मिश्रा, माया सिंह जैसे चेहरे हैं। रविवार की दोपहर दिल्ली में बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और दो केंद्रीय मंत्रियों नरेंद्र सिंह तोमर और प्रहलाद पटेल के बीच लंबी बातचीत हुई थी। राजनीतिक पंडितों का मानना है कि इन मेल मुलाकातों के प्रदेश की राजनीति में दूरगामी परिणाम होंगे, इस संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता।