अब MP के बिजली अधिकारी-कर्मचारियों के खोला मोर्चा, सरकार को आंदोलन की चेतावनी

कर्मचारियों का आरोप है कि निरंतर पत्राचार के बाद भी मप्र शासन (MP Government) एव कम्पनी प्रबंधन के द्वारा चर्चा न करने एवं उपेक्षा से आक्रोशित बिजली अधिकारी कर्मचारी आंदोलन के लिए बाध्य है।

बिजली

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बिजली कर्मचारी (electrician) अपनी मांगों को लेकर अब आंदोलन की राह पर चल पड़े है।अधिकारी-कर्मचारी विद्युत कंपनियों के निजीकरण एवं अन्य मांगों के लिए निर्णायक लड़ाई के लिए तैयार हो गए है।इसके लिए यूनाइटेड फोरम फ़ॉर पावर एम्प्लॉयज एवं इंजीनियर्स की प्रदेश कार्यकारिणी ने चरणबद्ध आंदोलन एवं कार्य बहिष्कार की घोषणा है। जिसके अंतर्गत पहले 19 जुलाई को 2 घंटे, 10 अगस्त को 1 दिवसीय और फिर 24 अगस्त से 26 अगस्त तक 3 दिवसीय कार्य बहिष्कार किया जाएगा। अगर इसके बावजूद भी सरकार ने मांगों को पूरा नही किया तो  6 सितंबर से अनिश्चित कालीन कार्य बहिष्कार करने की घोषणा की गई है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र का मौसम बदला, इन जिलों में आज भारी बारिश के आसार

दरअसल, यूनाइटेड फोरम फ़ॉर पावर एम्प्लॉयज एवं इंजीनियर्स (United Forum for Power Employees and Engineers की प्रदेश कार्यकरिणी की बैठक मे प्रदेश संयोजक  व्ही के एस परिहार की अध्यक्षता में चरणबद्ध आंदोलन का निर्णय लिया गया है। प्रान्तीय संयोजक  व्हीकेएस परिहार ने बताया कि मप्र सरकार द्वारा लाये जा रहे विद्युत संसोधन अधिनियम 2021 के विरोध एवं विद्युत अधिकारियों-कर्मचारियों की मांगों के निराकरण के लिए एमपी यूनाइटेड फोरम फ़ॉर पावर एम्प्लॉयज एवं इंजीनियर्स के द्वारा ऑल इंडिया पावर एम्प्लॉयज एंड इंजीनियर्स कॉर्डिनेशन कमेटी के आव्हान पर आंदोलन का फैसला किया गया है।

कर्मचारियों का आरोप है कि निरंतर पत्राचार के बाद भी मप्र शासन (MP Government) एव कम्पनी प्रबंधन के द्वारा चर्चा न करने एवं उपेक्षा से आक्रोशित बिजली अधिकारी कर्मचारी आंदोलन के लिए बाध्य है। विद्युत अधिकारियों-कर्मचारीयों की लंबित मांगों के निराकरण के लिए 8 जून को एमपी यूनाइटेड फोरम के प्रतिनिधि मंडल को म.प्र.शासन के ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर(Energy Minister Pradyuman Singh Tomar) द्वारा 15 जुलाई 2021 तक मांगो के निराकरण का आश्वाशन देने के बाद भी सकारात्मक निराकरण न होने एवं निरंतर पत्राचार के बाद भी शासन एवं कम्पनी प्रबंधन के द्वारा चर्चा न करने एवं उपेक्षा से विद्युत अधिकारियों- कर्मचारीयो में असंतोष गहरा गया है।

यह भी पढ़े.. ममता बनर्जी की कुर्सी पर मंडरा सकता है खतरा, जानें इसके पीछे का बड़ा कारण

बैठक में यूनाइटेड फोरम फ़ॉर पावर एम्प्लॉयज एवं इंजीनियर्स के प्रदेश पदाधिकारियों के साथ-साथ सभी कंपनी/रीजनल एवं जिला संयोजक जिला अध्यक्ष सहित बैठक में बड़ी संख्या में सभी वर्गों नियमित बोर्ड केडर, कंपनी केडर, संविदा कर्मी एवं बिजली आउटसोर्स कर्मचारी के प्रतिनिधि एवं संगठनों के पदाधिकारी शामिल थे।

निम्नानुसार आंदोलन कार्यक्रम घोषित-
1) दिनांक 19 जुलाई  2 घण्टे शाम 4 से 6 बजे कार्य बहिष्कार।

2)दिनांक 10 अगस्त  एक दिवसीय कार्य बहिष्कार।

3) दिनांक 24 अगस्त से 26 अगस्त तक तीन दिवसीय कार्य बहिष्कार।

4) 6 सितंबर से अनिश्चित कालीन कार्य बहिष्कार।

अब MP के बिजली अधिकारी-कर्मचारियों के खोला मोर्चा, सरकार को आंदोलन की चेतावनी अब MP के बिजली अधिकारी-कर्मचारियों के खोला मोर्चा, सरकार को आंदोलन की चेतावनी