MP Politics : अब सामने आया लक्ष्मण सिंह का यह Tweet, क्या है सियासी मायने

लक्ष्मण सिंह ने ट्वीट कर  लिखा है कि गोडसे  (Nathuram Godse) के उपासकों के लिए सेंट्रल जेल उपयुक्त स्थान है, कांग्रेस पार्टी नहीं।

लक्ष्मण सिंह

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश कांग्रेस (MP Congress) में इन दिनों गुटबाजी चरम पर है।पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ(Kamal Nath) द्वारा गोडसे भक्त को कांग्रेस में शामिल करवाए जाने के बाद से ही सियासी पारा जमकर उबाल मार रहा है। BJP के साथ साथ कांग्रेस अपनों से भी घिर गई है। गोडसे भक्त को लेकर कांग्रेस में दो फाड़ हो गए है।एक गोडसे भक्त की कांग्रेस में एंट्री को सही बता रहा है तो दूसरा विरोध करते हुए महात्मा गांधी बापू (Mahatma Gandhi Bapu) से माफी मांग रहा है।अरुण यादव (Arun Yadav) के बाद अब कांग्रेस विधायक (Congress MLA) लक्ष्मण सिंह के ट्वीट ने हलचल मचा दी है।

यह भी पढ़े.. दिग्विजय सिंह का बड़ा ऐलान- मध्य प्रदेश में करेंगे किसान महापंचायत का आयोजन

दरअसल, पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण यादव के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) के छोटे भाई और गुना (Guna) के चाचौड़ा विधानसभा (Chachoda Assembly) से कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने ट्वीट कर गोडसे भक्त के कांग्रेस में शामिल होने पर नाराजगी जताई है। लक्ष्मण सिंह ने ट्वीट कर  लिखा है कि गोडसे  (Nathuram Godse) के उपासकों के लिए सेंट्रल जेल उपयुक्त स्थान है, कांग्रेस पार्टी नहीं। गृह मंत्रालय (Home Ministry) भी गोडसे समर्थकों की गतिविधियों पर नजर रखे तो उचित होगा। लक्ष्मण सिंह ने यह ट्वीट कमलनाथ, एमपी कांग्रेस और कांग्रेस पार्टी को टैग किया है।

लक्ष्मण ने इस ट्वीट के बाद कांग्रेस और सियासी गलियारों में खलबली मच गई है। इस ट्वीट के कई सियासी मायने निकाले जा रहे है।हैरानी की बात तो ये है कि नगरीय निकाय चुनाव और पंचायत चुनाव से पहले एक बार फिर इस गोडसे भक्त की एंट्री से कांग्रेस में गुटबाजी और आपसी फूट खुलकर नजर आने लगी है, जिसे मुद्दा बनाकर सत्ता पक्ष भुनाने में जुट गया है।

यह भी पढ़े.. MP : पूर्व मंत्री हैरान, मैंने तो मना किया था फिर कैसे हो गया परिवहन कर्मी राजपत्रित

बता दे कि बीते बुधवार को ग्वालियर नगर निगम के वार्ड 44 से हिंदू महासभा के पार्षद बाबूलाल चौरसिया (Babulal Chaurasiya) को पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ कमलनाथ (Former Chief Minister Kamal Nath)ने कांग्रेस में शामिल करवाया था, जिसके बाद से ही बवाल मचा हुआ है। भोपाल (Bhopal) से लेकर दिल्ली (Delhi) तक सियासत गर्माई हुई है।