अब उमा भारती ने सत्ता में बैठे कुछ नेताओं को बताया निकम्मा, Congress ने कसा तंज

uma bharti

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। ब्यूरोक्रेसी को लेकर दिए गए अपने बयान पर सफाई में उमा भारती (Uma Bharti) का एक ट्वीट फिर विवादों में है। दरअसल ट्वीट में दिए जवाब में उन्होंने सत्ता में बैठे कुछ नेताओं को निकम्मा बता दिया है। कांग्रेस इसे लेकर हमलावर हो गई है।

बैकफुट पर उमा भारती, Tweet कर दी यह सफाई

सोमवार की दोपहर से उमा भारती के दो दिन पुराने वायरल वीडियो से शुरू हुआ विवाद अब तक जारी है। इस वायरल वीडियो में उमा भारती ने ब्यूरोक्रेसी को चप्पल उठाने वाला बताते हुए कहा था कि आखिरकार ब्यूरोक्रेसी की औकात ही क्या है! राजनेता जो चाहे वह काम करा सकते हैं। इसे लेकर कांग्रेस ने उमा भारती को घेरा और दिग्विजय सिंह ने तो उन्हें अपनी छोटी बहन बताते हुए उनके इस बयान को बेहद आपत्तिजनक बताते हुए उनसे माफी मांगने को लेकर ट्वीट कर दिया। हालांकि उसके पहले ही उमा भारती ट्वीट कर चुकी थी और अपनी असंयत भाषा को लेकर खेद भी प्रकट कर चुकी थी।

उमा ने अपने ट्वीट में यह भी लिखा था कि उन्हें अब यह ध्यान रहेगा कि सार्वजनिक स्थानों पर संयत भाषा का प्रयोग करना चाहिए। लेकिन इसी ट्वीट में उन्होंने लिख दिया कि “हम नेताओं में से कुछ सत्ता में बैठी निकम्मे नेता अपने निकम्मे पन से बचने के लिए ब्यूरोक्रेसी की आड़ लेते हैं कि हम तो बहुत अच्छे हैं लेकिन ब्यूरोक्रेसी हमारे अच्छे काम नहीं होने देती जबकि सच्चाई यह है कि ईमानदार ब्यूरोक्रेसी सत्ता में बैठे हुए मजबूत सच्चे और नेक इरादे वाले नेता का साथ देती है। यही मेरा अनुभव है।” कांग्रेस के प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने उमा भारती के ट्वीट पर पलटवार करते हुए लिखा है कि उमा भारती सत्ता में बैठे लोगों को निकम्मा बता रही हैं जबकि प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव भी चार-पांच बार के विधायक सांसदों को नालायक कह चुके हैं। सलूजा ने लिखा है कि “अब तो इनको नालायक और निकम्मों के नाम भी सार्वजनिक करनी चाहिए। पहली बार भाजपा के नेताओं का इतना अपमान हो रहा है।”