विकलांग बुजुर्ग को NSUI ने किया प्रदर्शन में शामिल, प्रशासन ने माना गलत, होगी जांच

जबलपुर में विकलांग बुजुर्ग को NSUI के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन में शामिल किया। जिसे प्रशासन ने सही नहीं बताते हुए जांच की बात कही है।

जबलपुर, संदीप कुमार। राजनीति जो न करवाए वो कम ही है, आज एक बार फिर राजनीति से जुड़ा मामला देखने को मिला। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के जबलपुर में जहां भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (Indian National Student Organization) ने अपने आंदोलन में एक विकलांग बुजुर्ग को शामिल किया और धूप में व्हील चेयर के सहारे उसे कलेक्टोरेट तक ले जाने की कोशिश की। हालांकि पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को बीच में ही रोक लिया।

यह भी पढ़ें:-व्यापारियों, प्रशासन के बीच बनी सहमति, मार्केट बंद रखने का फैसला वापस लिया

अपनी मर्जी से साथ में आए थे बुजुर्ग

दरअसल एनएसयूआई काफी दिनों से आयुषमान योजना में हो रही गफलत और जामदार अस्प्ताल में बुजुर्ग से कार्ड होने का बाद भी रुपये मांगने को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। शुक्रवार भी एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं ने पीड़ित बुजुर्ग के साथ सिविक सेंटर से कलेक्टोरेट जाने की कोशिश की, जिन्हें की पुलिस ने रोक लिया। एनएसयूआई का कहना है कि पीड़ित बुजुर्ग से जामदार अस्पताल के द्वारा आयुष्मान योजना का कार्ड होने के बाद भी रुपये मांगने का वीडियो वायरल हुआ है। इसके बाद भी प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है। जिससे यह बात साफ हो गई है कि जामदार अस्पताल पर प्रशासन कार्रवाई नहीं करना चाह रहा है।

24 घंटे का अल्टीमेटम

कांग्रेस के नगर अध्यक्ष दिनेश यादव के नेतृत्व में आज एनएसयूआई कार्यकर्ताओं ने तहसीलदार को एक पत्र कलेक्टर के नाम सौंपा है। जिसमें मांग की गई है कि अगर 24 घन्टे में जामदार अस्पताल पर कार्रवाई नहीं की तो उसके बाद एनएसयूआई उग्र आंदोलन करने को मजबूर हो जाएगा। जिसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

विकलांग बुजुर्ग को लाना गलत : प्रशासन

एनएसयूआई कार्यकर्ताओं के द्वारा अपने साथ विकलांग बुजुर्ग को आंदोलन में शामिल करने को लेकर जिला प्रशासन ने भी गलत माना है। तहसीलदार ने एनएसयूआई के द्वारा अपने साथ बुजुर्ग विकलांग के लेकर आने को गलत माना है। उनका कहना कि इसकी जांच पुलिस को करना होगा।