किसान सम्मान निधि: इस दिन आएगी 9वीं किश्त, इन किसानों को नहीं मिलेगा लाभ

इसके अलावा पति या पत्नी दोनों मे से केवल एक व्यक्ति ही पीएम किसान सम्मान निधि योजना का लाभ ले सकता है। सरकार के नियमों के मुताबिक PM KISAN योजना का लाभ पति-पत्नी दोनों नहीं ले सकते हैं।

कर्मचारियों

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। रक्षाबंधन (Rakshabandhan 2021) से पहले किसानों (Farmers) के लिए खुशखबरी है। पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan Samman Nidhi Yojana) के तहत मिलने वाली 9वीं किश्त जल्द मिलने वाली है। मीडिया रिपोट्स के मुताबिक, पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम की किस्त 1 अगस्त 2021 से शुरू होगी, इसके बाद किसानों के खाते में एक के बाद एक पैसे ट्रांसफर (Transfer) होना शुरु हो जाएंगे।

यह भी पढ़े.. MP Weather: मप्र के 22 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, एक साथ रेड-ऑरेंज अलर्ट जारी

खास बात ये है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम (PM Kisan) के तहत अब तक 10.90 करोड़ किसान परिवारों को 1,37,192 करोड़ रुपए जारी किए जा चुके हैं।वही आपत्र किसानों को इस बार पैसा नहीं मिलेगा।हाल ही में सामने आया था कि पीएम किसान पोर्टल  (PM Kisan Samman Nidhi Yojana 2021)  पर 20 जुलाई 2021 तक के दिए गए आंकड़ों के मुताबिक, 27 लाख से ज्यादा किसानों का ट्रांजैक्शन फेल चुका है।

वही 1 करोड़ 95 लाख पेमेंट राज्य सरकारों की ओर से रोक दिए गए हैं।इसके साथ ही पब्लिक फाइनेंस मैनेजमेंट सिस्टम (PFMS) से 31 लाख से ज्यादा किसानों का डेटा प्राइमरी लेवल पर ही रिजेक्ट कर दिया गया। केंद्र सरकार के पास 12.30 करोड़ आवेदन आए हैं, 2.77 करोड़ किसानों के आवेदन गलत हैं जिसमें त्रुटियां हैं और उन्हें सुधारना होगा।

यह भी पढ़े.. MANREGA: मनरेगा मजदूरों और अधिकारियों के लिए काम की खबर, निर्देश जारी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 1 अगस्त 2021 से किसानों के खाते में 9वीं किस्त आना शुरू हो जाएगी, लेकिन किसान सम्मान स्कीम का लाभ अब उन्हीं किसानों को मिलेगा जिनके नाम पर खेत होगा। अगर आपके नाम पर भी खेत है तो तुरंत ये काम कर लें, वरना आपकी अगली किस्त अटक सकती है.9वीं किस्त या अगस्त-नवंबर की किस्त का इंतजार कर रहे हैं तो पहले अपना स्टेटस चेक कर लें। कहीं ऐसा न हो कि किसी स्टेज पर आपका डेटा करेक्शन के लिए रुका हो और आपको पता ही न हो।

पति या पत्नी दोनों में से एक को मिलेगा लाभ

इसके अलावा पति या पत्नी दोनों मे से केवल एक व्यक्ति ही पीएम योजना का लाभ ले सकता है। सरकार के नियमों के मुताबिक PM KISAN योजना का लाभ पति-पत्नी दोनों नहीं ले सकते हैं। योजना के नियमों के अनुसार किसी परिवार के एक ही सदस्य को इसका लाभ मिल सकता है। वही अगर परिवार में पति-पत्नी दोनों को इस स्कीम का लाभ मिला है, तो उनसे राशि वसूल की जा सकती है, क्योंकि ऐसे लोग इस निधि के लिए पात्र नहीं हैं। हाल ही में 42 लाख अपात्र किसानों के नाम सामने भी आए है, जिनसे वसूली की जाएगी।

यह भी पढ़े.. किसान सम्मान निधि: 9वीं किश्त से पहले 27 लाख किसानों के खाते में ट्रांजैक्शन फेल, ये है कारण

गौरतलब है कि 1 दिसंबर, 2018 को केन्द्र की मोदी सरकार (Modi Government) ने पीएम-किसान सम्मान निधि योजना को शुरू किया था, इसके तहत केंद्र सरकार 2 हेक्टेयर तक जमीन वाले किसानों को सालाना 6000 रुपये भेजती है।वही मप्र सरकार 4 हजार रुपए और देती है।इसे मिलाकर किसानों को कुल 10 हजार रुपए खाते में डाले जाते है। वित्तीय वर्ष 2018-19 में इसका बजट 20,000 करोड़ रखा गया था और 2019-20 में इसका बजट 75,000 करोड़ कर दिया गया था।हालांकि 2020-21 के बजट में कोई बढ़ोत्तरी नहीं की गई है।

ऐसे कर सकते हैं अप्लाई

  • पीएम-किसान सम्मान निधि के पोर्टल (@pmkisan.gov.in) जाए।
  • एक पेज खुलेगा जिसमें आपको FARMER CORNERS का विकल्प दिखेगा।
  •  NEW FARMER REGISTRATION पर क्लिक करें।
  • नई विंडो खुलेगी तो इसमें आधार कार्ड और कैपचा कोड डालें।
  •  क्लिक हियर टू कॉनिटन्यू पर क्लिक करना होगा।
  • क्लिक करते ही एक नया पेज खुल जाएगा।
  • यहां एक फॉर्म दिखाई देगा। अपनी पूरी डीटेल्स सही भरें।
  • इसमें बैंक अकाउंट की जानकारी भरते समय IFSC कोड ठीक से भरकर उसे सेव कर दें।
  • इसके बाद फिर एक पेज खुलेगा। इसमें जमीन की डिटेल मांगी जाएगी।
  • खसरा नंबर और खाता नंबर भरें और सेव कर दें। आपकी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया अब पूरी हो चुकी है।

लिस्ट में नाम है या नहीं, ऐसे करें चेक

  • पहले पीएम किसान सम्मान निधि योजना (PM Kisan) की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं।
  • यहां आपको राइट साइड पर ‘Farmers Corner’ का विकल्प मिलेगा
  • यहां ‘Beneficiary Status’ के ऑप्शन पर क्लिक करें। यहां नया पेज खुल जाएगा।
  • नए पेज पर आधार नंबर, बैंक खाता संख्या या मोबाइल नंबर में से किसी एक विकल्प को चुनिए। इन तीन नंबरों के जरिए आप चेक कर सकते हैं कि आपके अकाउंट में पैसे आए या नहीं।
  • आपने जिस विकल्प का चुनाव किया है, उसका नंबर भरिए। इसके बाद ‘Get Data’ पर क्लिक करें।
  • यहां क्लिक करने के बाद आपको सभी ट्रांजेक्शन की जानकारी मिल जाएगी। यानी कौनसी किस्त कब आपके खाते में आई और किस बैंक अकाउंट में क्रेडिट हुई।
  • आठवीं किस्त से जुड़ी जानकारी भी आपको यहां मिल जाएगी।
  • यदि आपको ‘FTO is generated and Payment confirmation is pending’ लिखा हुआ दिख रहा है तो इसका मतलब है कि फंड ट्रांसफर की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ये किस्त कुछ ही दिनों में आपके खाते में ट्रांसफर हो जाएगी।
  • अगर पिछली सूची में आपका नाम था, लेकिन अपडेटेड सूची में आपका नाम नहीं है, तो आप पीएम किसान के हेल्पलाइन नंबर पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

अगर हो गई है कोई गलती, तो ऐसे सुधारें

अगर अप्रैल-जुलाई में जारी की गई 8वीं किस्त में कोई दिक्कत हुई है तो इसका कारण आपके डाक्यूमेंट में कोई कमी रह गई हो ऐसा हो सकता है।इसके लिए अपने आधार नंबर, बैंक अकाउंट नंबर को पहले से ही फॉर्म में सुधार लें ताकी 9वीं किस्त में कोई परेशानी ना हो और आपका पैसा भी ना अटकें।

1. गलती सुधरने के लिए आप सबसे पहले पीएम किसान की ऑफिशियल वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाएं.
2. अब इसके फार्मर कॉर्नर में जाकर Edit Aadhaar Details ऑप्शन पर क्लिक करें।
3. अब आप यहां आधार नंबर डालकर कैप्चा कोड भरें और सबमिट कर दें।
4. अगर आपको यहां कोई गलती दिखती है तो आप इसे इसे ऑनलाइन ठीक कर सकते हैं।
5. अगर कोई और भी गलती दिखती है तो अपने लेखपाल और कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क करें।
6. Helpdesk ऑप्शन के जरिए आप आधार नंबर, अकाउंट नंबर और मोबाइल नंबर डालने के बाद जो भी गलतियां हैं, उन्हें सुधार सकते हैं।
7. आधार नंबर में सुधार, स्पेलिंग में गलती जैसी कई गलतियों को आप ठीक कर सकते हैं।

इन्हें नहीं मिलेगा योजना का फायदा

  1. -ऐसे किसान जो भूतपूर्व या वर्तमान में संवैधानिक पद धारक हैं, वर्तमान या पूर्व मंत्री हैं।
  2. -मेयर या जिला पंचायत अध्यक्ष, विधायक, एमएलसी, लोकसभा और राज्यसभा सांसद।
  3. -ये लोग स्कीम से बाहर माने जाएंगे. भले ही वो किसानी भी करते हों।
  4. -केंद्र या राज्य सरकार के अधिकारी इससे बाहर रहेंगे।
  5. -पिछले वित्तीय वर्ष में आयकर भुगतान करने वाले किसानों को फायदा नहीं मिलेगा.
  6. -10 हजार रुपये से अधिक पेंशन पाने वाले किसानों को भी लाभ नहीं।
  7. -पेशेवर, डॉक्टर, इंजीनियर, सीए, वकील और आर्किटेक्ट योजना से बाहर होंगे।