MP Politics : इस मिथ के चलते उज्जैन में नहीं ठहरे सिंधिया-शिवराज, सत्ता जाने का डर!

इतना ही नहीं ये मिथ आज़ाद भारत के बाद अब तक बना हुआ है और अब इस 'मिथ' के चलते बड़े मंत्री और सीएम यहाँ रात नहीं गुजारते हैं।

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  देश दुनिया में हर जगह का अपना एक ‘मिथ’ होता है, जिसको लेकर कई पीढ़ियों तक में खौफ बना रहता है। कहा जाता है कि जिसने भी इनका उल्लंघन किया उसे इसका अंजाम भुगतना पड़ता है। ऐसे ही एक मिथ मध्य प्रदेश (MP) के उज्जैन (Ujjain) के महाकाल बाबा (Mahakaal Baba) से जुड़ा हुआ है, जिसके अनुसार यहाँ राज परिवार के सदस्य रात नहीं गुजारते हैं। इतना ही नहीं ये मिथ आज़ाद भारत के बाद अब तक बना हुआ है और अब इस ‘मिथ’ के चलते बड़े मंत्री और सीएम यहाँ रात नहीं गुजारते हैं।

यह भी पढ़े… MP Police Constable Recruitment : मप्र पर हावी बेरोजगारी, 4200 पदों पर 12 लाख आवेदन

यही कारण है कि नगरीय निकाय चुनाव (Urban Body Election) से पहले इंदौर (Indore) रोड स्थित निजी होटल में हो रहे भाजपा (BJP) के दो दिवसीय प्रदेश स्तरीय विधायक प्रशिक्षण शिविर में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) और BJP के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (BJP’s Rajya Sabha MP Jyotiraditya Scindia) शामिल तो हुए है लेकिन यहां रात नहीं रुकेंगे। इन्हीं किवदंतियों के चलते दोनों इंदौर में ठहरे है।

माना जाता है कि उज्जैन के राजा महाकाल और यही नगरी भी उन्हीं की हैं। धारणा है कि जो भी राजा या मुख्यमंत्री यहाँ रात में रुका उसे इसका खामियाजा सत्ता गंवाकर या फिर किसी नुकसान के जरिए उठाना पड़ा। इसी डर के चलते आज भी सत्ताधारी यहाँ रात नहीं गुजारते।वही सिंधिया परिवार के सदस्य यहाँ इसी मिथ के चलते रात में नहीं रुकते हैं।इसी वजह से महाकाल की शरण में रहने के लिए सिंधिया राजघराने ने महल बनवाया, उस समय सिंधिया राजघराने ने उज्जैन में कालीदेह महल को अपने ठहरने के लिए बनवाया था।कहा जाता है उज्जैन आने पर सिंधिया महाराज इसी महल में ठहरा करते थे।