PROMOTION: MP के इन अफसरों को जल्द मिलेगा तोहफा, बनेंगे IAS-IPS, प्रस्ताव तैयार

IAS

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) को जल्द 29 नए आईएएस और आईपीएस (IAS-IPS) मिलने जा रहे है।खबर है कि राज्य प्रशासनिक सेवा के 18 अफसरों को भारतीय प्रशासनिक सेवा में और 11 राज्य पुलिस सेवा के अफसरो को भारतीय पुलिस सेवा में प्रमोशन (Promotion) मिलने वाला है। इसके लिए शिवराज सरकार (Shivraj Government) द्वारा प्रस्ताव तैयार किया गया है, जो जल्द यूपीएससी (UPSC) को भेजा जाएगा।अगले महीने दिल्ली में डिपार्टमेंटल प्रमोशन कमेटी (DPC) की बैठक होना है, इसी बैठक में इस प्रस्ताव को रखा जाएगा।

यह भी पढ़े.. MP के इन कर्मचारियों को बड़ा झटका- दी जाएगी अनिवार्य सेवानिवृत्ति

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबित, IAS  संवर्ग आवंटन के लिए 18 पद उपलब्ध हैं, तो IPS संवर्ग आवंटन के लिए 11 पद उपलब्ध हैं, इसके लिए राज्य प्रशासनिक सेवा के 54 अधिकारियों का प्रस्ताव संघ लोकसेवा आयोग (UPSC को भेजा जाना है। इसके लिए जीएडी की कार्मिक शाखा ने प्रस्ताव तैयार कर लिया है, जो जल्द ही यूपीएससी को भेजा जाएगा और मुहर लगते ही अक्टूबर-नवंबर में प्रदेश को आईएएस-आईपीएस मिल जाएंगे।वही IPS अनिल कुमार मिश्रा और देवेंद्र कुमार सिरोलिया के खिलाफ जांच चलने के चलते इनका नाम बाहर हो सकता है।

IAS में प्रमोशन के लिए वर्ष 1994 से लेकर वर्ष 2000 तक के बैच के राज्य प्रशासनिक सेवा के 54 अफसरों के नामों पर विचार किया जाएगा। इनमें प्रमुख तौर पर मुख्यमंत्री के डिप्टी सेक्रेट्री सुधीर कोचर, रानी बाटड, चंद्रशेखर शुक्ला, नारायण प्रसाद नामदेव, दिलीप कुमार कापसे, बुद्धेश वैद्य, जयेंद्र कुमार विजयवत, अभय अरविंद बेड़ेकर, अजय देव, नियाज अहमद खान, मनोज मालवीय, नीतू माथुर, अंजू पवन भदौरिया और जमना भिडे के नाम शामिल हैं।

यह भी पढ़े.. MP Weather: जल्द बदलेगा मौसम, होगी अच्छी बारिश! आज इन जिलों में बौछार के आसार

इसके अलावा राज्य पुलिस सेवा से आइपीएस अवॉर्ड के लिए 11 नामों में सेवा अभिलेखों के आधार पर 1995-96 बैच के अधिकारी प्रकाश चंद्र परिहार, निश्चल झारिया, रसना ठाकुर, संतोष कोरी, जगदीश डाबर, मनोहर सिंह मंडलोई, रामजी श्रीवास्तव, जितेंद्र सिंह पवार, सुनील तिवारी, संजीव कुमार सिन्हा और संजीव कुमार कंचन का नाम चर्चा में है। इसके लिए पुलिस मुख्यालय ने गृह विभाग को प्रस्ताव भेज दिया है। 5 साल की गोपनीय चरित्रावली और अन्य रिपोर्ट के आधार पर इन्हें IPS बनने का मौका दिया जा सकता है।