इस मंत्री का कांग्रेस पर कटाक्ष, कहा- “सिंधिया जी अभी भी पूरी कांग्रेस को सपने में आते हैं”

इंदौर, आकाश धोलपुरे। कांग्रेस छोड़ बीजेपी में शामिल हुए राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया जब से केंद्रीय उड्डयन मंत्री बने है तब से ही कांग्रेस उन पर जमकर निशाना साध रही है। इंदौर में पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने एक दिन पहले जारी एक वीडियो में केंद्रीय मंत्री पर इंदौर एयरपोर्ट के निजीकरण पर सवाल उठाये थे। वहीं शनिवार को जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने कांग्रेस पर जवाबी हमला बोलते हुए निशाना साधा और कहा कि सिंधिया जी अभी भी पूरी कांग्रेस के सपने में आते है। इधर, बीजेपी सांसद शंकर लालवानी ने देश में एयरपोर्टस के निजीकरण के सवाल पर सीधे जबाव दिया और कहा कि एयरपोर्ट के निजीकरण की शुरुआत कांग्रेस ने ही थी और वो ही आज सवाल उठा रही है।

कांग्रेस में बड़ा फेरबदल- इस दिग्गज नेता को मिली प्रदेश अध्यक्ष की कमान

दरअसल, शनिवार को इंदौर में आईडीए द्वारा महालक्ष्मी नगर से तुलसी नगर तक बनाई जा रही सड़क के भूमि पूजन में शामिल हुए बीजेपी के मंत्री और सांसद ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। एयरपोर्ट के निजीकरण और ज्योतिरादित्य सिंधिया को मिले एविएशन मंत्रालय पर कांग्रेस द्वारा की जा रही टिप्पणी पर सांसद शंकर लालवानी ने कहा कि निजीकरण की शुरुआत पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के समय से हुई थी। निजीकरण होने से एयरपोर्ट विस्तार में मदद मिलेगी, निवेशक अधिक सुविधाएं बढ़ाने पर ध्यान देते हैं। वहीं मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि कांग्रेस को अब भी सिंधिया जी सपने आते है और कांग्रेस अब बची कहां है।

इसके पहले मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार में मंत्री रह चुके कांग्रेस नेता और विधायक सज्जन सिंह वर्मा का एक वायरल वीडियो सोशल मीडिया पर इसी सवाल पर बवाल मचा रहा था जिसका जवाब इंदौर से ही मंत्री और सांसद ने दिया है। वीडियो में पूर्व मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने कहा था कि आने वाले समय में मोदी इंडिया फॉर सेल का भी बोर्ड लगा देंगे, जिसे कि अडानी और अंबानी खरीदेंगे। वही उन्होंने वीडियो में केंद्रीय मंत्री पर हमला बोलते हुए फिर से कहा कि उन्हें उड्डयन मंत्री के रूप लॉलीपॉप थमाई गई है। बता दें कि जब से केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय का प्रभार राज्यसभा सभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के पास आया है तब से ही इंदौर एयरपोर्ट को लेकर कांग्रेस के विरोध के स्वर तेज हो गए है। ये ही वजह है कि निजीकरण को लेकर इन दिनों इंदौर में राजनीति गर्म है।

 

सज्जन वर्मा ने दिया था ये बयान –