दिल्ली के बाद अब जबलपुर में एक महिला ने की पुलिस से बदसलूकी, वीडियो वायरल

मामला जबलपुर का है जहां कर्फ्यू के दौरान सड़क पर घूमने निकले परिवार से पुलिस ने पूछताछ की तो सोनी परिवार की महिला बदतमीजी पर उतर आई।

जबलपुर, संदीप कुमार। कुछ दिन पहले देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) के एक महिला द्वारा पुलिस केसाथ बदतमीजी करने का वीडियो सोशल मीडिया (Social Media) पर खूब वायरल हुआ था, और वैसा ही कुछ देखने को मिला संस्करधानी जबलपुर (Jabalpur) में जहां कोरोना कर्फ्यू (Corona curfew) में टहल रहे एक परिवार ने पुलिस के साथ अभद्रता की है, ताजा मामला धनवंतरीनगर थाना के है जहां बेवजह घूम रहे एक परिवार के 4 सदस्य को जब पुलिस ने रोका तो वह लोग बदतमीजी में उतर आए, और पुलिस से अभद्रता की जिसके बाद कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर संजीवनी नगर थाना पुलिस ने परिवार के चारो सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। आप भी देखिए किस तरह बेलगाम होकर महिला पुलिस से बदसलूकी कर रही है।

पुलिस ने समझाया तो भड़क गया परिवार
रात का समय था और कोरोना कर्फ्यू लगा हुआ है, बावजूद इसके सोनी परिवार के सदस्य सड़क पर घूम रहे थे, जिसके बाद थाना प्रभारी भुनेश्वरी चौहान के द्वारा परिवार के चारो सदस्यों को समझाया कि कोरोना संकट काल में सड़क पर न निकलें, लॉकडाउन लगा हुआ है, इस पर परिवार ने चोरी ऊपर से सीना जोरी जैसा रवैया अपनाते हुए पूरा परिवार पुलिस के साथ बदसलूकी पर उतारू हो गया, जिस पर महिलाए आगे थी, पुलिस के बार-बार समझाने पर भी महिला अनर्गल बातें करती रही, ऐसे में पुलिस ने परिवार के सदस्यों के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा और लॉकडाउन उल्लंघन सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया।

यह भी पढ़ें…जबलपुर- गैलेक्सी हॉस्पिटल में ऑक्सीजन खत्म होने से 5 मरीजों की मौत, देर रात हुआ हंगामा

दर्ज हुआ मुकदमा
संजीवनी नगर थाना प्रभारी ने शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने और कोरोना प्रोटोकॉल का उल्न्लंघन करने पर चारो को थाने लाई और सुमित सोनी, ममता सोनी के खिलाफ कोरोना कर्फ्यू में बेवजह घूमने के चलते धारा 188, पुलिस के साथ बदसलूकी और शासकीय कार्य में बाधा डालने पर धारा 353 के अलावा अन्य धाराओं में एफआईआर दर्ज की है,इधर भाई-बहन का आरोप है कि पहले पुलिस ने उनके साथ अभद्र व्यवहार किया था, इसलिए गुस्से में उन्होंने यह सब किया।

यह भी पढ़ें…भोपाल में भी चरमराई स्वास्थ्य व्यवस्था, अब एम्स ने लगाया बोर्ड, ‘अभी सभी बेड फुल है असुविधा के लिए खेद है’