बदहाल बिजली व्यवस्था को लेकर विश्नोई फिर मुखर, शिवराज को लिखी पाती

अजय विश्नोई

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश सरकार में मंत्री रह चुके और वर्तमान में पाटन से बीजेपी विधायक अजय विश्नोई के सुर एक बार फिर तीखे हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर प्रदेश की बदहाल होती विद्युत व्यवस्था के बारे में लिखकर अपने सुझाव दिए हैं।

कोरोना वैक्सीन नही लगी तो दर्शन नही, देखिए कहाँ बना यह नियम

प्रदेश के मंत्रिमंडल में महाकौशल को उचित प्रतिनिधित्व न दिए जाने से लगातार नाराज रहे अजय विश्नोई समय-समय पर राज्य सरकार को कभी टि्वटर तो कभी पत्र के माध्यम से नाराजगी व्यक्त करते रहते हैं। इस बार उनकी नाराजगी की वजह प्रदेश की जर्जर व बदहाल होती विद्युत व्यवस्था है, जिसकी वजह उन्होंने उचित मेंटेनेंस का अभाव बताया है। इस बारे में उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखा है और इस पत्र में लिखा है कि प्रदेश की भाजपा सरकार हर साल 21000 करोड़ रुपए की सब्सिडी का तिलक प्रदेश के अन्नदाताओ के माथे पर लगाती है, परंतु किसानों तक बिजली पहुंचाने के लिए तंत्र के रखरखाव के लिए आवश्यक 800-900 करोड़ रुपए खर्च नहीं करती। लिहाजा ग्रामीण क्षेत्र में बिजली ट्रिपिंग, ट्रांसफार्मर जलने की शिकायत बहुतायत में आती है।

उन्होंने मुख्यमंत्री को लिखा है कि कृषि और ग्रामीण उपभोक्ता प्रदेश सरकार के द्वारा दी जा रही हजारों करोड़ रुपए की सब्सिडी से सीधे प्रभावित नहीं होता लेकिन मेंटेनेंस के अभाव से उत्पन्न होने वाले विद्युत व्यवधान से परेशान होकर नाराज जरूर हो जाता है। विश्नोई ने पत्र में आगे लिखा है कि पिछले तीन सालों से प्रदेश की तीनों विद्युत वितरण कंपनियों द्वारा आवश्यक मेंटेनेंस नहीं किया गया है। विश्नोई ने लिखा है कि विद्युत नियामक आयोग द्वारा मेंटेनेंस की प्रस्तावित राशि का 25% से भी कम राशि मेंटेनेंस के लिए उपलब्ध कराई जा रही है जिसके कारण प्रदेश की विद्युत वितरण व्यवस्था लड़खड़ा गई है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मेंटेनेंस के लिए आवश्यक राशि उपलब्ध कराने को कहा है और यह भी लिखा है कि यदि ऐसा किया जाता है तो इससे आपकी सरकार की वाहवाही होगी। अब विश्नोई के इस पत्र पर कितना गौर किया जाएगा यह तो देखने वाली बात होगी लेकिन एक बार फिर विश्नोई के तीखे तेवर इस पत्र से साफ हो गए हैं।