बुखार में इन चीजों का सेवन कतई ना करें, वरना और बिगड़ जाएगी तबीयत

जब हम बीमार होते है तो उस समय में हमें कुछ ऐसी चीजे खाने की सलाह दी जाती है। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी होती है और बीमारी से लड़ने में हमारी मदद भी करती है। लेकिन कुछ चीजें जो बीमारी के दौरान हमारे लिए अच्छी नहीं होती।

हेल्थ, डेस्क रिपोर्ट। जब हम बीमार होते है तो उस समय में हमें कुछ ऐसी चीजे खाने की सलाह दी जाती है। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छी होती है और बीमारी से लड़ने में हमारी मदद भी करती है। लेकिन कुछ चीजें जो बीमारी के दौरान हमारे लिए अच्छी नहीं होती, उन्हें न खाने की सलाह भी दी जाती है। मौसम परिवर्तन के समय खासकर गर्मी और बारिश के बीच के समय में सर्दी, बुखार, खांसी होना आम बात है। बुखार (हे फीवर) के दौरान हमें किस चीजों को खाने से बचना चाहिए, आइए जानते है।

यह भी पढ़ें – देवास एसपी बने सिंघम, 16 कंजरों के डेरो पर बड़ी कार्यवाही कर किया 5 करोड़ से ज्यादा का मशरूका बरामद

मौसम के बदलाव के साथ-साथ बीमार होने का खतरा और भी बढ़ जाता है। ऐसे में खुद का और अपने परिवार का खास ख्याल रखने की आवश्यकता होती है। बारिश और गर्मी के बीच मौसम में अचानक बदलाव के कारण बुखार (hey fever) सर्दी- खांसी, उल्टी, दस्त की समस्याएं हो जाती है। बुखार में इन चीजों का सेवन न करें।

यह भी पढ़ें – आरोपी को हथकड़ी लगाकर कोर्ट में किया पेश, कोर्ट ने पुलिस को लगाई फटकार

  • डेयरी प्रोडक्ट अधिकांश दूध से बनी चीजें शरीर में कफ को बढ़ाते है।
  • विशेषज्ञ का कहना है की दूध से बनी कुछ चीजें जैसे पनीर और दूध अनाज के साथ मिलकर शरीर में कफ को बढ़ाता है। जिससे नाक बंद होने जैसी समस्या उत्पन्न हो सकती है।
  • शराब बुखार के समय शराब का सेवन नुकसान दायक हो सकता है, क्योंकि शराब में हिस्टामाइन पाए जाते है, जो बुखार के समय मरीज की आंखो में जलन पैदा कर सकता है एवं हमारे सूंघने की क्षमता को कम कर सकता है।

यह भी पढ़ें – Mandi bhav: 1 जून 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

  • वाइन, बीयर और साइडर इन पेय पदार्थो में हिस्टामाइन पाया जाता है, इसलिए इसका सेवन नुकसान पहुंचा सकता है।
  • मीठे खाद्य पदार्थ हे फीवर के दौरान हमें मीठे पदार्थ चीनी और प्रोसेस्ड फूड को अवॉइड करना चाहिए क्योंकि ये पदार्थ शरीर में हिस्टामाइन को बढ़ा देते है, जिससे फीवर और बिगड़ सकता है।
  • कुछ फल एवं सब्जियों का परहेज हे फीवर से पीड़ित व्यक्ति का डाइजेशन कमजोर हो जाता है जिससे एलर्जी भी हो सकती है। ऐसे में ताजे फलों और खट्टे फलों को खाने के बाद गले में खराश, कान में खुजली होने जैसी समस्या हो सकती है।

यह भी पढ़ें – Bank Holiday : बैंक जाने का बना रहे प्लान तो उससे पहले चेक कर ले, जून में कब-कब रहेंगी बैंक बंद

Disclaimer: यह लेख केवल जानकारी के लिए है। एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी बीमारी के सम्बन्ध में अपने डॉ. से परामर्श करें।