टैक्सी ड्राइवर से न्यूजीलैंड की पहली भारतीय महिला पुलिसकर्मी बनने तक, जानिये मनदीप की कहानी

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कहते हैं हौंसलों के पंख होते हैं, जहां चाह वहां राह। इस बात को सच कर दिखाया है पंजाब (Punjab) की मनदीप कौर सिद्धू (Mandeep Kaur Sidhu) ने। वे न्यूजीलैंड (New Zealand) पुलिस में भर्ती होने वाली पहली भारतीय महिला बन गई हैं। एक टैक्सी ड्राइवर (taxi Driver) से लेकर पुलिसकर्मी बनने तक की उनकी कहानी बेहद चुनौतीपूर्ण है।

ये भी देखिये – PMFBY- किसानों के लिए सरकार देगी बड़ी सौगात, दो लाख लोगों को होगा फायदा

मनदीप कौर सिद्धू पंजाब के मानसा के पास एक गांव कमालू की रहने वाली हैं। घर से पहला कदम निकालकर पहले वो चंडीगढ़ पहुंचीं। उनकी शादी हुई फिर दुनिया बदल गई। शादी के बाद घर चलाने की सारी जिम्मेदारियां उनपर आ गई और फिर 1996 में वो ऑस्ट्रेलिया चली गईं। यहां मनदीप ने आगे की पढ़ाई पूरी की। 1999 में वो न्यूजीलैंड शिफ्ट हो गईं। यहां उन्होने पेट्रोल पंप पर काम किया, सेल्स का काम भी किया। फिर कुछ समय  बाद वो टैक्सी चलाने लगीं। टैक्सी चलाते हुए ही उनकी मुलाकात एक रिटायर्ड पुलिसकर्मी जॉन पेग्लर (John Peglar) से हुई, जिन्हें अब मनदीप अपना ‘कीवी पिता’ कहती हैं। पेग्लर मनदीप को अपने पुलिस विभाग (police) के दौर की कहानियां सुनाते थे। उन चमत्कृत कर देने वाले किस्सों को सुनकर 52 साल की मनदीप के मन में भी पुलिस में जाने की इच्चा जागी और उन्होने ये बात पेग्लर को बताई।

बस, इसके बाद कहानी ने यू टर्न लिया। पेग्लर की सलाह पर मनदीप में अपना 20 किलो वजन कम किया। इस दौरान उन्होने अन्य चीजों पर भी काफी मेहनत की। जॉन पेग्लर और मनदीप के घरवालों ने उनका पूरा सहयोग किया। और फिर दो साल बाद उनका सपना सच हुआ। आखिर मनदीप में न्यूजीलैंड पुलिस फोर्स जॉइन कर ली। सीनियर कॉन्सटेबल के पद पर उनकी जॉइनिंग हुई और आप अपनी काबिलियत के बल पर वो सीनियर सार्जंट (senior Sergeant) हैं। इसी के साथ मनदीप ने न्यूजीलैंड पुलिस फोर्स में पहली भारतीय महिला होने का गौरव भी हासिल किया है।