NIT Uttarakhand Recruitment: नॉन टीचिंग के विभिन्न पदों पर भर्ती प्रक्रिया जारी, इच्छुक अभ्यर्थी तुरंत करें अप्लाई

Shashank Baranwal
Published on -
NIT Uttarakhand Recruitment

NIT Uttarakhand Recruitment: राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) में नौकरी करने का ख्वाब देखने वाले युवाओं के लिए महत्वपूर्ण जानकारी है। एनआईटी उत्तराखंड ने नॉन टीचिंग के विभिन्न पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शुरु की है। योग्य एवं इच्छुक उम्मीदवार एनआईटी की आधिकारिक वेबसाइट nituk.ac.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। आवेदन की अंतिम तारीख 30 अक्टूबर 2023 निर्धारित की गई है। वहीं इन भर्तियों के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों को आवेदन की हार्ड कॉपी को आवश्यक डाक्यूमेंट्स और सर्टिफिकेट को सत्यापन के साथ 7 नवंबर 2023 तक एनआईटी उत्तराखंड में भेजना पड़ेगा। इन पदों की अधिक जानकारी के लिए अभ्यर्थी एक बार आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर जरूर चेक कर लें।

पदों का विवरण

एनआईटी उत्तराखंड द्वारा विभिन्न पदों के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरु की गई है। इन पदों में अधीक्षक के लिए 2 पद, जूनियर सिविल इंजीनियर के लिए 2 पद, जूनियर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के लिए 1 पद, ऑफिस अटेंडेंट के लिए 3 पद, तकनीकी सहायक के लिए 2 पद, आशुलिपिक के लिए के 1 पद, अधीतक्षक (ग्रहणाधिकार रिक्ति के विरुद्ध) के लिए 1 पद और एसएएस सहायक के लिए 1 पद हैं।

शैक्षणिक योग्यता

एनआईटी उत्तराखंड द्वारा जारी भर्ती के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों के पास किसी भी विषय में स्नातक की डिग्री होना चाहिए। वहीं इन पदों पर चयनित होने वाले अभ्यर्थियों को 18,000 रुपये से लेकर 35,400 रुपये तक वेतन दिया जाएगा। आपको बता दें इन पदों पर अभ्यर्थियों का चयन लिखित परीक्षा और ट्रेड टेस्ट के आधार पर होगा।


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News