Facial Exercise: मोटे गालों को अलविदा, इन आसान फेशियल एक्सरसाइज की मदद से घटाएं चेहरे की चर्बी और दिखें खूबसूरत

Facial exercise: फेशियल एक्सरसाइज न केवल चेहरे की मांसपेशियों को मजबूत बनाती है और रक्त प्रवाह को बेहतर बनाती, बल्कि यह झुर्रियों और फाइन लाइनों को कम करने में भी मदद करती है, जिससे आपकी त्वचा अधिक युवा और चमकदार दिखाई देती है

भावना चौबे
Published on -
face

Facial exercise: हर कोई खूबसूरत दिखना चाहता है, इस भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों के लिए खुद के लिए समय ही नहीं रहता है। अनहेल्दी खान पान और बिगड़ी लाइफस्टाइल के चलते मोटापा ना सिर्फ व्यक्ति के शरीर पर नजर आता है बल्कि चेहरे पर भी साफ नजर आता है। चेहरे की बढ़ती चर्बी के कारण लुक और खूबसूरती तो कम होती ही है साथ ही साथ कॉन्फिडेंस भी काम हो जाता है। ऐसे बहुत लोग रहते हैं जो चेहरे की जमी चर्बी से परेशान रहते हैं। बहुत लोग अपने मोटे-मोटे गालों को पतला करना चाहते हैं। लेकिन उन्हें समझ ही नहीं आता है कि गालों को पतला करने के लिए आखिर करें तो क्या करें। अगर आप भी अपने मोटे-मोटे गालों को पतला करना चाहते हैं तो अब ज्यादा चिंता की कोई जरूरत नहीं है। हम आपके लिए इस लेख के द्वारा ऐसी फेशियल एक्सरसाइज लेकर आए हैं जो न सिर्फ आपके चेहरे की चर्बी घटा देगी बल्कि आपके लुक को और भी ज्यादा खूबसूरत बना देगी।

फेस स्ट्रेचिंग क्या होता है

फेस स्ट्रेचिंग, चेहरे की मांसपेशियों को मजबूत और लचीला बनाने के लिए किए जाने वाले व्यायामों का एक समूह है। यह चेहरे के रक्त प्रवाह को बेहतर बनाने और त्वचा को अधिक टोंड और युवा दिखाने में भी मदद करता है। फेस स्ट्रेचिंग चेहरे की मांसपेशियों को मजबूत बनाकर और त्वचा को अधिक लोचदार बनाकर झुर्रियों और ठीक लाइनों को कम करने में मदद करता है। यह व्यायाम चेहरे की मांसपेशियों को टोन करके और उन्हें अधिक परिभाषित करके चेहरे के आकार को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। फेस स्ट्रेचिंग चेहरे में रक्त प्रवाह को बढ़ाता है, जिससे त्वचा को अधिक ऑक्सीजन और पोषक तत्व मिलते हैं। यह त्वचा को स्वस्थ और चमकदार दिखने में मदद करता है। चेहरे की मांसपेशियों को तनावग्रस्त करने से सिरदर्द और जबड़े में दर्द हो सकता है। फेस स्ट्रेचिंग तनाव को कम करने और इन लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकता है।

Continue Reading

About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग रंग होता है, यह इतना चमकदार रंग होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा की कलम में बहुत ताकत होती है, इस कलम की ताकत को बरकरार रखने के लिए हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन से बीए स्नातक किया। मैं अब आगे इसी विषय में DAVV यूनिवर्सिटी से स्नाकोत्तर कर रही हूं। मेरा पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू ही हुआ है। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग, वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली, धर्म इन विषयों पर लिखना अच्छा लगता है।