Health: वीक में कितने दिन जिम जाना होता है सही? जानें

Health: आजकल फिटनेस का जुनून चरम पर है और जिम जाना मानो एक मंत्र बन गया है। हर उम्र के लोग, युवा से लेकर वरिष्ठ तक, स्वस्थ शरीर और आकर्षक काया के लिए जिम का रुख कर रहे हैं। लेकिन, जिम जाने की आदत डालते समय एक सवाल ज़रूर दिमाग में आता है - आखिर सप्ताह में कितने दिन जिम जाना फायदेमंद होता है?

भावना चौबे
Published on -
gym

Health: आजकल फिट रहना और अच्छी बॉडी बनाना हर किसी का सपना बन गया है। इसलिए, जिम लोगों की पहली पसंद बन गया है। युवाओं के साथ-साथ मध्यम आयु और वरिष्ठ नागरिक भी बड़ी संख्या में जिम जा रहे हैं। लेकिन, एक सप्ताह में कितने दिन जिम जाना इस सवाल को लेकर लोगों में भ्रम की स्थिति है। कुछ लोग हर दिन जिम जाते हैं, जबकि कुछ सप्ताह में 3-4 दिन ही जाते हैं। तो सही क्या है? विशेषज्ञों की मानें तो यह आपके फिटनेस लक्ष्य और स्वास्थ्य पर निर्भर करता है।

वीक में कितने दिन जिम जाना माना जाता है फायदेमंद?

जो लोग अपनी फिटनेस बनाए रखना चाहते हैं उनके लिए हफ्ते में 3 से 5 बार जिम जाना अच्छा माना जाता है। लेकिन, अगर आप स्वस्थ हैं और सप्ताह में सिर्फ 2 दिन जिम जा पाते हैं, तो भी यह सेहत के लिए फायदेमंद हो सकता है। यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि रोजाना जिम जाना सलाह नहीं दी जाती है। ऐसा इसलिए है क्योंकि रोज़ाना व्यायाम करने से शरीर को आराम नहीं मिल पाता और ओवरट्रेनिंग हो सकती है। इससे मांसपेशियों में खिंचाव और थकान जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। एथलीटों और आम लोगों के लिए व्यायाम की आदतें अलग-अलग होती हैं।

एथलीटों के लिए: प्रति सप्ताह 6 दिन व्यायाम करना एथलीटों के लिए आम बात है। मांसपेशियों की रिकवरी और वृद्धि के लिए 1 दिन का आराम आवश्यक होता है। एथलीटों का व्यायाम आमतौर पर अधिक तीव्र और लंबी अवधि का होता है।

आम लोगों के लिए: प्रति सप्ताह 4-5 दिन व्यायाम करना पर्याप्त है। मांसपेशियों की रिकवरी और चोटों से बचाव के लिए 2 दिन का आराम जरूरी है। आम लोगों का व्यायाम मध्यम तीव्रता और अवधि का होता है।

जिम में पहले दिन ज़्यादा एक्सरसाइज करने से दर्द क्यों होता है?

जिम में पहले दिन ज़्यादा एक्सरसाइज करने से हाथ-पैरों में दर्द होना आम बात है। इसके पीछे मुख्य कारण हैं मांसपेशियों में सूक्ष्म-आँसू, लैक्टिक एसिड का जमा होना और रक्त प्रवाह में अचानक वृद्धि।

सूक्ष्म-आँसू: जब आप अचानक ज़्यादा ज़ोरदार व्यायाम करते हैं, तो आपकी मांसपेशियों में सूक्ष्म-आँसू (micro-tears) हो जाते हैं। ये सूक्ष्म-आँसू ही दर्द और सूजन का कारण बनते हैं।

लैक्टिक एसिड: व्यायाम के दौरान, आपकी मांसपेशियां ऊर्जा के लिए ग्लूकोज का उपयोग करती हैं। जब ग्लूकोज टूटता है, तो यह लैक्टिक एसिड पैदा करता है। लैक्टिक एसिड में वृद्धि मांसपेशियों में दर्द और जलन का कारण बन सकती है।

रक्त प्रवाह में वृद्धि: व्यायाम के दौरान, आपके हृदय गति और रक्तचाप में वृद्धि होती है। यह अचानक से होने पर मांसपेशियों में दर्द और अकड़न का कारण बन सकता है।

इन कारणों से बचने के लिए, फिटनेस ट्रेनर क्या सलाह देते हैं?

मोबिलिटी, स्ट्रेचिंग और वॉर्मअप: जिम जाने से पहले 5-10 मिनट मोबिलिटी, स्ट्रेचिंग और वॉर्मअप करने से आपके जोड़ों और मांसपेशियों को गर्म करने और लचीला बनाने में मदद मिलती है। इससे चोट लगने का खतरा कम होता है और मांसपेशियों में दर्द कम होता है।

धीरे-धीरे शुरुआत करें: शुरुआत में हल्के व्यायाम से करें और धीरे-धीरे तीव्रता और अवधि बढ़ाएं।

अपनी क्षमता का सम्मान करें: ज़्यादा ज़ोर न करें और जब आपको थकान या दर्द महसूस हो तो आराम करें।

हाइड्रेटेड रहें: व्यायाम करने से पहले, दौरान और बाद में भरपूर पानी पीना महत्वपूर्ण है। इससे आपके शरीर को हाइड्रेटेड रहने और मांसपेशियों की ऐंठन से बचने में मदद मिलेगी।

पर्याप्त आराम करें: अपनी मांसपेशियों को ठीक होने का समय दें।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)

 


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News