Parenting Tips: क्या आपका बच्चा भी हर कभी करने लगता है जिद, अपनाएं ये टिप्स बनेगा समझदार

Parenting Tips: बच्चे जिद्दी होते हैं, यह एक आम बात है। लेकिन जब जिद हद से ज्यादा बढ़ जाए तो माता-पिता परेशान हो जाते हैं। ऐसे में क्या करें?

parenting tips

Parenting Tips: जिद्दी बच्चे – माता-पिता के लिए एक सिरदर्द, नहलाना हो, खाना खिलाना हो या सोना हो, हर काम में अड़ियलपन। बच्चों की जिद्द को समझना और उससे निपटना कई बार मुश्किल हो जाता है। लेकिन घबराइए नहीं, कुछ आसान रणनीतियां अपनाकर आप अपने जिद्दी बच्चे को भी अनुशासित बना सकते हैं। मनोवैज्ञानिकों और पैरेंटिंग एक्सपर्ट्स से कुछ सुझाव अपनाकर आप अपने जिद्दी बच्चे को भी समझदार और अनुशासित बना सकते हैं।

बुरे व्यवहार को अनदेखा करें

जब बच्चा जिद करता है या गलत व्यवहार करता है, तो उस पर ध्यान न दें। उसकी हर बात सुनने या हर हरकत पर प्रतिक्रिया देने से बचें। जब बच्चा जिद करता है या गलत व्यवहार करता है, तो उस पर ध्यान न दें। उसकी हर बात सुनने या उसकी हर हरकत पर प्रतिक्रिया देने से बचें। यदि आप प्रतिक्रिया देते हैं, तो उसे लगेगा कि उसका व्यवहार काम कर रहा है और वह आगे भी ऐसा ही करेगा। लेकिन यदि आप उसे अनदेखा करते हैं, तो उसे धीरे-धीरे एहसास होगा कि उसका व्यवहार बेकार है और वह रुक जाएगा।

उनकी भावनाओं को समझें

बच्चे भी इंसान हैं और उनकी भी भावनाएं होती हैं। जब वे जिद करते हैं, तो उनकी भावनाओं को समझने की कोशिश करें। क्या वे गुस्से में हैं? निराश हैं? डरे हुए हैं? उनकी भावनाओं को समझकर आप उनकी जिद्द के पीछे की वजह को जान सकते हैं। जब वे जिद करें तो उनकी बात ध्यान से सुनें। बीच में टोके नहीं, उनकी पूरी बात सुनें।

बच्चों के साथ जबरदस्ती न करे

बच्चों के साथ जबरदस्ती करना, चाहे वो पढ़ाई के लिए हो या कोई और काम, उन्हें जिद्दी और विद्रोही बना सकता है। जब हम उन पर दबाव डालते हैं, तो वे अपनी स्वतंत्रता और इच्छाशक्ति को खोने का एहसास करते हैं, जिसके कारण वे और भी ज़िद्द करते हैं। इसके बजाय, प्यार और समझदारी से उन्हें समझाना बेहतर तरीका है। उनकी रुचि और क्षमता को समझें, और धीरे-धीरे उन्हें प्रेरित करें।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News