Jaipur: जयपुर के ‘हवा महल’ को क्यों दिया गया आखिर ये नाम? जानें कैसे बनी ये अनोखी इमारत

Jaipur: जयपुर, जिसे "गुलाबी शहर" के नाम से भी जाना जाता है, अपनी समृद्ध संस्कृति, शानदार किलों और महलों के लिए प्रसिद्ध है। इनमें से एक अनोखा स्मारक है 'हवा महल'।

भावना चौबे
Published on -
hawa mahal

Jaipur: भारत अपनी संस्कृति और परंपराओं के अलावा अपनी धरोहरों के लिए भी जाना जाता है। यहां कई ऐसी इमारतें हैं, जो हमारे देश के समृद्ध और गौरवमयी इतिहास को दर्शाती हैं। राजस्थान देश का ऐसा ही एक राज्य है, जो अपनी रंग-बिरंगी संस्कृति और खूबसूरती के लिए जाना जाता है। यहां कई सारे महल और किले मौजूद हैं, जिन्हें देखने दूर-दूर से लोगा यहां आते हैं। राजस्थान की राजधानी जयपुर, जिसे पिंक सिटी के नाम से भी जाना जाता है, ऐसा ही एक खूबसूरत शहर है।

जयपुर, राजस्थान की राजधानी, गुलाबी शहर के नाम से जाना जाता है। यह भारत के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। 1727 में महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा स्थापित, जयपुर अपनी समृद्ध संस्कृति, भव्य वास्तुकला, रंगीन बाजारों और स्वादिष्ट भोजन के लिए प्रसिद्ध है। गुलाबी रंग की इमारतें, जो चूने और गुड़ के मिश्रण से रंगी गई हैं, शहर को एक अनोखा और आकर्षक रूप प्रदान करती हैं। जयपुर हवा महल, जंतर मंतर, आमेर का किला, सिटी पैलेस, जयगढ़ किला, नाहागढ़ किला जैसे कई ऐतिहासिक स्मारकों का घर है।

बाजार जयपुर की जीवंत संस्कृति का प्रतिबिंब हैं। जौहरी बाजार, त्रिपोलिया बाजार, बैंड बाजार जैसे बाजार हस्तशिल्प, कपड़े, आभूषण, और मसालों की विस्तृत श्रृंखला के लिए प्रसिद्ध हैं। जयपुर राजस्थानी व्यंजनों का स्वाद लेने के लिए भी एक शानदार जगह है। दाल बाटी चूरमा, लस्सी, घेवर, मिठाई जैसे व्यंजन यहां के पसंदीदा व्यंजन हैं। जयपुर त्यौहारों का शहर भी है। गणगौर, होली, दशहरा, दीपावली जैसे त्योहार यहां बड़े उत्साह के साथ मनाए जाते हैं। जयपुर सांस्कृतिक कार्यक्रमों और कला प्रदर्शनियों का भी आयोजन करता है। अगर आप भारत की समृद्ध संस्कृति और इतिहास का अनुभव करना चाहते हैं, तो जयपुर निश्चित रूप से आपके लिए एक आदर्श स्थान है।

कैसे पड़ा जयपुर के ‘हवा महल’ का नाम?

जयपुर में स्थित हवा महल, अपनी अनूठी वास्तुकला और भव्यता के लिए जाना जाता है। 1799 में निर्मित यह पांच मंजिला महल, मधुमक्खी के छत्ते जैसा दिखता है, जिसमें 953 छोटी-छोटी खिड़कियां और झरोखे बने हुए हैं। इन खिड़कियों और झरोखों से होकर आने वाली हवा, महल के अंदर एक प्राकृतिक एयर कंडीशनिंग सिस्टम का काम करती है, जिसके कारण इसे “हवा महल” नाम दिया गया। यह महल, राजस्थानी वास्तुकला का एक उत्कृष्ट नमूना है। गुलाबी बलुआ पत्थर से बना यह महल, शहर के रॉयल पैलेस के पास स्थित है और जयपुर की पहचान बन गया है। हवा महल, पर्यटकों के बीच एक लोकप्रिय आकर्षण है, जहाँ से जयपुर शहर का मनोरम दृश्य दिखाई देता है।

क्यों बनाया गया था हवा महल

महाराजा सवाई प्रताप सिंह द्वारा 1799 में निर्मित यह पांच मंजिला महल, शाही परिवार और दरबार की महिलाओं को जौहरी बाजार की चहल-पहल को देखने की सुविधा प्रदान करने के लिए बनाया गया था। उस समय, समाज में महिलाओं के लिए पर्दा प्रथा प्रचलित थी, जिसके कारण उन्हें बाहर निकलकर बाजार जैसी सार्वजनिक जगहों पर जाना उचित नहीं माना जाता था। हवा महल की छोटी-छोटी खिड़कियां और झरोखे, महिलाओं को पर्दे के पीछे से ही बाहर की दुनिया को देखने की सुविधा प्रदान करते थे। वे इन झरोखों से बाजार की गतिविधियों, उत्सवों और जुलूसों को बिना किसी की नजर में आए देख सकती थीं। इस प्रकार, हवा महल न केवल एक शानदार वास्तुशिल्प कृति है, बल्कि यह उस समय की सामाजिक रीति-रिवाजों और महिलाओं के जीवन पर भी प्रकाश डालता है। यह दर्शाता है कि कैसे रचनात्मक सोच और वास्तुकला का उपयोग सामाजिक प्रतिबंधों के बावजूद महिलाओं को कुछ स्वतंत्रता प्रदान करने के लिए किया जा सकता था।

(Disclaimer- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं के आधार पर बताई गई है। MP Breaking News इसकी पुष्टि नहीं करता।)


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।

Other Latest News