अशोकनगर में महिलाओं के साथ मारपीट मामलें में कचनार टीआई समेत 04 पुलिसकर्मी निलंबित

mp police

अशोकनगर,हितेंद्र बुधौलिया। जिले के कचनार थाने में पदस्थ थाना प्रभारी व चार अन्य पुलिस कर्मियों को महिलाओं से मारपीट के मामले में निलंबित कर दिया गया है। 31 जुलाई की रात में मोहरी गांव में सिविल ड्रेस में गांव के लोगो से हुये विवाद के बाद पुलिसकर्मियों ने बड़ी बेरहमी से महिलाओं के साथ मारपीट की थी,सोमवार को पीड़ित पक्ष के साथ यादव समाज के नेताओ ने एस पी को इस मामले की शिकायत की थी। सूत्रों के मुताबिक जिले के मंत्री ब्रजेंद्र सिंह यादव के द्वारा यह मामला मुख्यमंत्री के संज्ञान में भी लाया गया था।

दतिया मे पुलिस आरक्षक को अज्ञात बदमाशों ने मारी गोली, हालत गंभीर

इस मामले के तूल पकड़ने के बाद पुलिस अधीक्षक रघुवंश सिंह भदौरिया का कहना है कि ग्रामीण एवं पुलिस के बीच हुये विवाद की जांच कराई जा रही है। निर्दोष महिलाओं पर पुलिसिया बर्बरता के मामले के सामने आने और लोगो के उग्र विरोध के बाद ही दो दिन से मामले को दबाने की कोशिशों के बाद आखिर आज कचनार थाना प्रभारी कपिक लक्ष्यकार सहित 5 पुलिस कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है।पीड़ित पक्ष ने पुलिसकर्मियों पर मामला दर्ज करने की भी मांग की है।

एक्शन मोड मे अरुण यादव,मंगलवार को करेगे शक्ति प्रदर्शन

फरियादी पक्ष के अनुसार पूरा मामला 31 जुलाई का है, जब शराब पकड़ने गए दीवान चंद्रपाल सिंह शराब बेचने वाले का पीछा कर रहे थे, तभी शराब बेचने वाला व्यक्ति अपनी मोटरसाइकिल एक घर के सामने छोड़कर भाग गया, जिसके बाद उस घर में सो रहे एक व्यक्ति के साथ दीवान चंद्रपाल ने मारपीट शुरू कर दी, मारपीट की घटना से शोर होने के चलते ग्रामीण घरों से बाहर आ गए और उन्होंने दीवान चंद्रपाल सिंह को पकड़ लिया, दीवान चंद्रपाल उस समय बिना ड्रेस में था पुलिस यूनिफार्म नहीं पहने हुआ था उसके बाद दीवान के साथ एक अन्य व्यक्ति था जिसने इसकी सूचना थाने में दी। परिजनों व ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस कर्मी थानेदार सहित चार गाड़ियों से आए और उन्होंने ग्रामीणों के साथ मारपीट की जिसके बाद ग्रमीण भाग गए,फिर सभी पुलिस कर्मी व उनके साथ आये लोग उस घर मे गये जहाँ मोटर साइकिल छोड़ कर आरोपी भागा था।

 

ऐसा आरोप है की पुलिस ने महिलाओं सहित बच्ची के साथ भी मारपीट की मारपीट के समय घर की लाइट बन्द कर दी गयी व मारपीट करने के बाद पुलिसकर्मी वहां से चले गए। इस पूरे मामले की शिकायत पीड़ित परिजनों ने थाने में की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई तो सोमवार शाम यादव समाज के लोग व ग्रामीण एसपी ऑफिस पहुंचे जिन्होंने इसकी शिकायत एसपी को की, एसपी ने कार्रवाई करने का आश्वासन दिया तो वहीं दूसरी ओर मंत्री बृजेंद्र सिंह जो कि इसी जिले की विधानसभा मुंगावली से विधायक हैं उन्होंने इस पूरे मामले की जानकारी सीएम शिवराज सिंह से मिलकर व सिंधिया को फोन कर दी सीएम ने इस मामले में एसपी को निर्देशित करते हुए कार्रवाई करने के निर्देश दिए, जिसमे एसपी ने थानेदार सहित चार अन्य पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर उनके खिलाफ जांच शुरू कर दी है जांच के बाद आरोपियों पर एफ आई आर दर्ज की जाएगी।