बैतूल में युवक से इंटरनेशनल साइबर ठगी, 4 घंटे में 400 ट्रांजेक्शन कर उड़ाए 37 हजार!

बैतूल में युवक से इंटरनेशनल साइबर ठगी कर 4 घंटे में 400 ट्रांजेक्शन कर 428.56 यूरो और 0.49 यूएस डॉलर निकल लिए गए।

बैतूल, वाजिद खान। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बैतूल (Betul) में एक इंटरनेशनल ठगी (international online fraud) का मामला सामने आया है। जहां एक युवक के प्रीपेड फॉरेक्स कार्ड (prepaid forex card) से 400 बार ट्रांजेक्शन कर 428 यूरो (428 euro) और कुछ यूएस डॉलर का ट्रांजेक्शन कर युवक को ठगा गया है। बेंगलुरु निवासी अमित भार्गव जोकि एल एंड टी माइंडट्री कंपनी में डायरेक्टर के पद पर हैं। कंपनी के कार्य से उन्हें विदेश जाना पड़ता है इसलिए कंपनी ने उन्हें प्रीपेड फॉरेक्स कार्ड दिया हुआ है। पिछले एक माह से अमित बैतूल (Betul) में अपने मामा विजय भार्गव के घर पर रह कर ऑनलाइन काम कर रहे थे। 12 अगस्त की सुबह उनके मोबाइल पर लगातार नोटिफिकेशन आ रहे थे। जब उन्होंने मोबाइल देखा तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई उनके फॉरेक्स कार्ड से 4 घंटे में 400 बार ट्रांजेक्शन किया गया था ।

यह भी पढ़ें…जेल के मुलाक़ात कक्ष में महिला के साथ छेड़छाड़ और दुष्कर्म का प्रयास, जेल प्रहरियों ने दिया घटना को अंजाम

अमित का कहना है कि सुबह 4.56 मिनिट से 8.49 मिनिट तक 400 ट्रांजेक्शन के नोटिफिकेशन आए थे । इस ट्रांजेक्शन में उनके फॉरेक्स कार्ड से 428.56 यूरो और 0.49 यूएस डॉलर का ट्रांजेक्शन किया गया था। अमित को हैरानी उस समय भी कि उनका कार्ड बेंगलुरु में घर पर सुरक्षित रखा है और ट्रांजेक्शन के लिए किसी भी तरह का ओटीपी भी नहीं आया। उन्होंने तत्काल आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) फोन किया लेकिन उस समय बैंक बंद था। कॉल सेंटर भी फोन किया लेकिन वह सुबह 9 बजे के पहले शुरू नहीं होता। अमित ने इस मामले में बैतूल के गंज थाने में शिकायत दर्ज कराई है जो ट्रांजेक्शन हुआ है। वह भारतीय मुद्रा में 37 हजार रुपये है।

गंज थाना के टीआई प्रवीण कुमरे का कहना है कि एक शिकायत आई है जिसमें युवक के पास फॉरेक्स कार्ड था इसमें इंटरनेशनल बैंकिंग चलती है। कार्ड घर में सुरक्षित रखा हुआ है। जब जांच शुरू की तो पता चला कि सबसे पहले इसमें पिज़्ज़ा ऑर्डर किया गया। ये ट्रांजेक्शन ऑनलाइन गेम कंपनी के अकाउंट में हुआ है साइबर सेल के माध्यम से जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें…Ratlam : पुल के आभाव में जान जोखिम में डालकर नदी पार करते है कालबेलिया बस्ती के ग्रामीण, प्रशासन बेसुध