कांग्रेस लिमिटेड कंपनी मति भृम की शिकार सभी सिंधिया फोबिया के शिकार- डॉ रमेश दुबे

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Bhind News: कांग्रेस की सभा फरेबियों के जमघट के रूप में हुई। प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) को पता होना चाहिए कि, “सिंधिया परिवार की विचार धारा हमेशा जन सेवा की रही है, वो कभी नही बदलती”, उक्त वक्तव्य भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य डॉ रमेश दुबे (Dr. Ramesh Dubey) ने कही। उन्होंने कहा कि, “जहां वो माला चढ़ा कर आई है वो वीरांगना का समाधि स्थल सिंधिया परिवार ने ही बनवाया है। प्रियंका पहले इतिहास को जाने फिर कुछ बोलें।”

रमेश दुबे ने कहा, “अस्तित्व खो चुकी कांग्रेस कंपनी की तुष्टि करण की राजनीति की वजह से ये दुर्गति हुई है।” भाजपा नेता ने कहा की,” कांग्रेस कंपनी के लोग श्री सिंधिया जी के नाम पर ही राजनीति कर रहे हैं। उन्हे ये मालूम होना चाहिए कि कांग्रेस में कुछ लोग नकाब पहनकर कुछ भी बोलते हैं। लेकिन उनकी सच्चाई कुछ और ही है। प्रियंका वाड्रा जो गांधी नाम की ओढ़नी पहन कर सोच रही है की चंबल की जनता उनकी बातों से प्रभावित हो जाएगी यह उनका मति भ्रम है।”
दुबे ने कहा, “माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) जी ने विश्व में देश का मान और सम्मान शिखर तक पहुंचाया है। देश के आम नागरिक का आत्मविश्वास लौटाया है और ये मौका परस्त कंपनी के प्रोपराइटर झूठ फैलाने का असफल प्रयास कर रहे हैं। रमेश दुबे ने कहा, “कांग्रेस कंपनी कुछ भी जतन कर लें, प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी पूर्ण बहुमत से 2023 में सरकार बनाएगी।”


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News