Tiger: बाघिन सुंदरी की हुई गृह वापसी, कैद से मुक्त कराने के लिए CM शिवराज ने लिखा था ओडिशा के CM को पत्र

29 जुन 2018 को बाघ पुनर्वास योजना के तहत महावीर और सुंदरी को ओडिश के सत्कोसिया टाइगर रिजर्व (Satkosia Tiger Reserve) में बाघों का कुनबा बढ़ाने के लिए भेजा था, लेकिन बाघ की वहां बिना देखरेख के मौत हो गई।

डेस्क रिपोर्ट, भोपाल। भोपाल (Bhopal) से तीन साल पहले गई सुंदरी को आज राज्य में वापस लाया गया। दरअसल 2018 में पुनर्वास योजना के तहत मध्य प्रदेश वन विभाग (Madhya Pradesh Forest Department) ने बाघ महावीर के साथ बाघिन सुंदरी को ओडिशा वन विभाग (Odisha Forest Department) को भिजवाया था। लेकिन, आज तीन साल बाद बाघिन सुंदरी को अकेले ही MP लाया गया है। क्योंकि उसके साथी महावीर की ओडिशा (Odisha) में ही मौत हो गई। सुंदरी को अब मंडला के कान्हा नेशनल पार्क (Kanha National Park) में रखा गया है।

ये भी पढे़- Bhopal News: भोपाल कलेक्टर ने जारी की नई गाइडलाइन, अब रात 9 बजे से नाइट कर्फ्यू

बता दें कि MP सरकार के आग्रह के बाद सुंदरी को ओडिशा से अपने गृह राज्य भिजवाया गया है। जैसे ही यह बात CM शिवराज को पता चली की सुंदरी कैद में रह रही है, उन्होंने ओडिशा के CM को सुंदरी की वापसी के  लिए अनुरोध करते हुए एक भावुक पत्र लिखा। जिसके बाद कोर्ट के आदेश पर बाघिन की वापसी की तैयारी शुरू की गई और अब बाघिन कान्हा टाइगर रिजर्व पंहुची है।

ये भी पढे़- Corona ने बदला सेलिब्रेशन का तरीका, Online गाएंगे फाग, घर पर ही खेलेंगे होली

29 जुन 2018 को बाघ पुनर्वास योजना के तहत महावीर और सुंदरी को ओडिश के सत्कोसिया टाइगर रिजर्व (Satkosia Tiger Reserve) में बाघों का कुनबा बढ़ाने के लिए भेजा था। लेकिन, बाघ के मर जाने के बाद बाघिन बहुत गुस्सेल हो गई थी और दो लोगों पर हमला कर दिया था। तब से ही संदरी कैद में रह रही थी। अब जाकर सुंदरी ने जंगल की खुली हवा महसूस की है।

देखरेख न मिल पाने के कारण हुई थी महावीर की मौत
सत्कोसिया टाइगर रिजर्व एरिया (Satkosia Tiger Reserve Area) में बाघों की देखरेख ठीक से नहीं हो रही थी। उसी के चलते बाघ महावीर की मौत हो गई और कुनबा बढ़ाने के उद्देश्य से भेजी गई सुंदरी अकेली ही रह गई।
इस बारे में जब MP के वाइल्ड लाइफ के चीफ जेएस चौहान से बात की गई तो उन्होंने बताया कि बाघिन को इस वक्त कान्हा पार्क के ही खुले बाड़े में रखा है।उसके व्यवहार और बर्ताव की देखरेख की जाएगी। अगर उसका स्वभाव बदलकर सामान्य होता है तभी उसे खुले जंगलों में छोड़ा जाएगा। फिलहाल उसे कान्हा पार्क के ही मुक्की जोन स्थित घोरेला बाड़े में छोड़ कर ट्रेनिंग दी जाएगी।