MP में लोकायुक्त के शिकंजे में फंसा CMO, 10 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथों धराया

आरोपी सीएमओ ने अमित से मेडिकल रिपोर्ट बनाने के एवज में 20 हजार रुपए की रिश्वत (Bribe) मांगी थी।

bribe

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में भ्रष्टाचार के मामले दिनों दिन बढ़ते ही जा रहे है। आए दिन लोकायुक्त द्वारा रिश्वतखोरों पर कार्रवाई की जा रही है। अब रीवा जिला अस्पताल (Rewa District Hospital) में पदस्थ एक सीएमओ (CMO) को लोकायुक्त पुलिस ने 10 हजार रुपए की रिश्वत  लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। । लोकायुक्त द्वारा कार्रवाई पूरी हो जाने के बाद डॉ. तथा उसके कंपाउंडर को जमानत पर रिहा कर दिया है। आरोपी सीएमओ के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है।

यह भी पढ़े.. मध्यप्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में बनाए जाएंगे कोविड सेल, राज्यपाल ने दिए निर्देश

मिली जानकारी के अनुसार, लोकायुक्त (Rewa Lokayukt) ने यह कार्रवाई डॉ. अलख प्रकाश के सिरमौर चौराहा स्थित निजी क्लीनिक में की है। जिला अस्पताल में पदस्थ सीएमओ डॉ अलख प्रकाश सिंह को रायपुर कर्चुलियान के गोरगांव निवासी अमित तिवारी से 10 हजार रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार (Arrested) किया है। आरोपी सीएमओ ने अमित से मेडिकल रिपोर्ट बनाने के एवज में 20 हजार रुपए की रिश्वत (Bribe) मांगी थी।

अमित आरोपी को दस हजार रुपए पहले ही दो अलग अलग किश्तों में दे चुका था। अमित ने इस मामले की शिकायत लोकायुक्त से की, जिसके बाद आरोपी सीएमओ को दस हजार रुपए की रिश्वत लेते पकड़ा गया है।कार्रवाई पूरी होने के बाद डॉ. अलख प्रकाश तथा उनके कम्पाउंडर रणजीत अग्निहोत्री को जमानत पर रिहा कर दिया गया है, लेकिन दोनों पर ही मामला दर्ज किया गया है। फिलहाल मामले की जांच जारी है।

यह भी पढ़े.. पीएम मोदी ने किया तो MP मे क्यों नही…कमलनाथ ने शिवराज से पूछा सवाल

बता दे कि यह पहला मौका नहीं है। मध्य प्रदेश में जुलाई के महिने में लोकायुक्त ने आधा दर्जन रिश्वत की कार्रवाई की है।हाल ही में जबलपुर, सागर, इंदौर, इटारसी, बालाघाट, रतलाम और राजगढ़ में कार्रवाई की गई थी।