प्रदेश में कई बार सामने आ चुके है नक्सल कनेक्शन के मामले: डीजीपी

dgp-statement-on-naxal-connection-in-madhypradesh

भोपाल।

उत्तरप्रदेश एटीएस की टीम द्वारा भोपाल में नक्सल विचारधारा फॉलो करने वाले दंपति की गिरफ़्तारी के बाद  डीजीपी वीके सिंह का बड़ा बयान सामने आया है।डीजीपी का कहना है कि यह कार्रवाई पहली बार नही हुई ।पहले भी ऐसे मामले  सामने आ चुके है । पहले भी काफी सामान जब्त किया गया था, जो तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई होगी ।

डीजीपी का कहना है कि शहरों में नक्सल विचारधारा के लोग रहते हैं ।  नक्सल गतिविधियों में शामिल एक दंपत्ति पर  कार्रवाई की जा रही है।यूपी पुलिस की जानकारी पर ये कार्रवाई  हो रही है। फिलहाल दंपत्ति से पूछताछ की जा रही है मामला जांच में है इसलिए फिलहाल ज्यादा नही बोलूंगा । वही डीजीपी का कहना है कि  इससे पहले भोपाल में नक्सलियों की एक हथियार फैक्ट्री भी पकड़ में आयी थी। वहां से काफी सामना बरामद किया गया था। आगे जो भी तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर कार्रवाई की जाएगी। भोपाल में अब जो दंपति पकड़े गए हैं उनसे पूछताछ के बाद जांच आगे बढ़ेंगी।

ये है पूरा मामला

उत्तरप्रदेश एटीएस की टीम ने नक्सली विचारधारा से जुड़े दंपति को भोपाल से हिरासत में लिया है। पुलिस के अनुसार ये दंपति पहचान छिपाकर भोपाल के शाहपुरा इलाके में रह रहे थे। आरोपी दंपति का नाम मनीष श्रीवास्तव और पत्नी वर्षा उर्फ अनिता श्रीवास्तव है।इनके पास से एटीएस ने नक्सल साहित्य और दूसरे दस्तावेज जब्त किए हैं। ये दंपती शाहपुरा के विकास कुंज के मकान नंबर 40 में रह रहे थे। जिस शख्स के घऱ में वो किराए से रह रहे थे, वो पेशे से सिविल इंजीनियर है आरोपी दंपति ​के पास से नक्सली साहित्य समेत मोबाइल, लेपटॉप और कई फ़र्ज़ी दस्तावेज जब्त किए गए हैं। ये मूलत: उत्तरप्रदेश जौनपुर के रहने वाले हैं। उत्तर प्रदेश एटीएस ने यूपी, एमपी समेत 6 स्थानों पर दबिश दी है। फिलहाल गिरफ्तार आरोपियों को ट्रांजिट रिमांड पर लखनऊ ले जाया जाएगा। जहां इनसे पूछताछ की जाएगी।