गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के प्रत्याशियों ने छोड़ी पार्टी, कांग्रेस को समर्थन का ऐलान

heavy-jolt-to-gondwana-party-in-chindwara-candidate-announce-to-support-congress

भोपाल। मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृह क्षेत्र छिंदवाड़ा में लोकसभा चुनाव और विधानसभा उपचुनाव के मतदान से 11 दिन पहले ही बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है| यहां गोंडवाना गणतंत्र पार्टी को बड़ा झटका लगा है| पार्टी के मैदान में उतरे दोनों प्रत्याशियों ने गोंडवाना गणतंत्र पार्टी से अलविदा करते हुए कांग्रेस को समर्थन देने का ऐलान किया है| ताजा घटनाक्रम के बाद बीजेपी के लिए मुश्किलें और बढ़ गई हैं, वहीं कमलनाथ और छिंदवाड़ा से लोकसभा प्रत्याशी नकुलनाथ की फाइट भी आसान हो गई है| क्षेत्र में 29 अप्रैल को मतदान होना है। ऐसे में एक साथ दो प्रत्याशियों द्वारा पार्टी छोड़ना गोंगपा के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

दरअसल, इस सीट पर राजकुमार सरेयाम लोकसभा और सतीश नागवंशी विधानसभा उपचुनाव में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी  से प्रत्याशी थे| पार्टी के दोनों प्रत्याशी राजकुमार सरेयाम और सतीश नागवंशी ने पार्टी छोड़कर सीएम कमलनाथ व उनके बेटे नकुलनाथ को समर्थन दिया है। दोनों उम्मीदवारों ने पार्टी में चल रही आंतरिक गुटबाजी को कारण बताते हुए यह फैसला किया है। यही नहीं उन्होंंने पूर्व विधायक पर गंभीर आरोप भी लगाए हैं। उनका कहना है कि राष्ट्रीय गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के प्रत्याशी मनमोहन शाह बट्टी ने आदिवासियों को ठगने के साथ ही उनका गलत इस्तेमाल भी किया है। उन्होंने आरोप लगाए है कि दादा हीरा सिंह मरकाम की आड़ में बट्टी ने गोंडवाना गणतंत्र पार्टी में अपनी राजनीति की। फिर दादा को ही धोखा देकर अलग पार्टी बना ली। 

 लोकसभा चुनाव से पहले इस तरह पार्टी छोड़ने को लेकर गोंगपा के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। बता दे, पूर्व विधायक मनमोहन शाह बट्टी पहले ही राष्ट्रीय गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के बैनर तले लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं। बीजेपी ने भी आदिवासी उम्मीदवार पर ही दांव लगाया है। ऐसे में गोंगपा छोड़कर कांग्रेस का समर्थन करने का फैसला पार्टी के लिए बड़ा घटनाक्रम माना जा रहा है। वहीं कांग्रेस के लिए चुनाव भी आसान हो गया है|